menu-icon
India Daily
share--v1

'खड़े विच डांग खड़के...', अमृतसर में गूंजे भिंडरांवाले के पोस्टर, लहराई तलवारें, क्यों उठा खालिस्तान का शोर?

ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी के मौके पर  सिख समुदाय के कुछ लोगों ने गोल्डन टेम्पल परिसर के अंदर नारे लगाए. प्रदर्शन के दौरान जरनैल सिंह भिंडरावाले के पोस्टर भी दिखे और खालिस्तान समर्थक नारे भी लगे.

auth-image
India Daily Live
punjab
Courtesy: Social Media

पंजाब के अमृतसर में ऑपरेशन ब्लू स्टार की 40वीं बरसी पर कुछ ऐसा हुआ कि सुरक्षा एजेंसियों के कान खड़े हो गए. अमृतसर स्थित गोल्डन टेंपल में काफी संख्या में लोग जमा हुए. लोगों के हाथों में तलवार और जरनैल सिंह भिंडरवाले के पोस्टर. सिख सममुदाय के लोग नारे भी लगा रहे थे. सुबह से ही लोगों ने गोल्डन टेंपल में इकट्‌ठा होना शुरू कर दिया है. ऐसे में आज शहर और बाजार बंद रहने का अनुमान है. 

ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी के मौके पर  सिख समुदाय के कुछ लोगों ने  गोल्डन टेम्पल परिसर के अंदर नारे लगाए. प्रदर्शन के दौरान जरनैल सिंह भिंडरावाले के पोस्टर भी दिखे और खालिस्तान समर्थक नारे भी लगे. वहीं, एसएसपी अमृतसर एसएस रंधावा सिंह ने बताया कि यहां सुरक्षा व्यवस्था की गई है. बल तैनात किए गए हैं और बैरिकेडिंग की गई है. किसी भी अप्रिय घटना पर नजर रखी जाएगी. पंजाब में 2 दिन पहले आए लोकसभा चुनाव परिणाम में 2 खालिस्तान समर्थक रिकॉर्ड वोटों से जीते. 

अमृतपाल ने जीता चुनाव

असम की डिब्रूगढ़ जेल में बंद खालिस्तान समर्थक अमृतपाल और इसी ऑपरेशन ब्लू स्टार के विरोध में पूर्व पीएम इंदिरा गांधी की हत्या करने वाले उनके सिक्योरिटी गार्ड बेअंत सिंह का बेटा सर्बजीत सिंह खालसा लोकसभा के चुनाव जीत चुके हैं. गोल्डन टेंपल में अमृतपाल की मां और फरीदकोट से सांसद चुने गए सर्बजीत खालसा भी पहुंचे. अमृतपाल की मां बलविंदर कौर पहले ही वहां से चली गईं, लेकिन सांसद खालसा गोल्डन टेंपल में रुके रहे.

सुरक्षा के कड़े इंतेजाम

पुलिस अलर्ट पर है. किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए भारी पुलिस बल तैनात है. अमृतसर में पैरामिलिट्री और पुलिस की सुरक्षा तैनात की गई. इस दौरान अमृतसर के बाजार बंद रहे.  बता दे कि ऑपरेशन ब्लू स्टार में सैकड़ों लोग मारे गए, जिनमें सेना के जवान और नागरिक दोनों शामिल थे. गोल्डन टेम्पल को भी भारी नुकसान हुआ था.