menu-icon
India Daily
share--v1

Farmers Protest: 'अगर किसान हिंसक हुए तो हम भी उठाएंगे कदम', किसान आंदोलन को लेकर दिल्ली पुलिस सख्त

Farmers Protest: किसान दिल्ली ओर से कूच कर रहे हैं. पंजाब और हरियाणा में उग्र प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने एक प्रेस ब्रीफिंग की है. इसमें हालातों से निपटने के लिए सख्त निर्देश दिए गए हैं.

auth-image
India Daily Live
Farmers Protest, Delhi Police, kisan Andolan

Farmers Protest: पंजाब से लेकर दिल्ली तक किसानों की कूच जारी है. इस बीच कई जगहों से हिंसा की भी खबरें सामने आई हैं. पुलिस को उग्र प्रदर्शनकारी किसानों पर पानी की बौछार से लेकर आंसू गैस के गोले तक दागने पड़े हैं. ऐसे में दिल्ली पुलिस का एक बयान सामने आया है. बयान में कहा गया है कि अगर किसान आक्रामक या फिर उग्र हुए तो हम भी पीछे नहीं हटेंगे. रक्षात्मक कदम उठाते हुए प्रदर्शनकारियों को पीछे धकेलेंगे. 

दिल्ली पुलिस की ओर से की गई प्रेस ब्रीफ में कहा गया है कि सिंघू बॉर्डर समेत दिल्ली की सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है. पुलिस अधिकारियों ने कहा है कि प्रदर्शनकारियों को एक भी कमजोर बिंदु नहीं दिया जा सकता है, जिससे वे अपने ट्रैक्टरों पर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में घुस सकें. दिल्ली पुलिस और रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) के जवानों को सिंघू बॉर्डर पर मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी गई. जहां हजारों किसान अपने 'दिल्ली चलो' विरोध प्रदर्शन के लिए इकट्ठा हो रहे हैं. 

भीड़ को तीतर-बितर करने के लिए आंसू गैस छोड़ने के निर्देश

ब्रीफिंग में दिल्ली पुलिस और अर्द्धसैन्य बलों के अधिकारियों ने कहा है कि अगर किसान आक्रामक होते हैं तो हम रक्षात्मक रूप में कार्रवाई करेंगे. पुलिस और आरएएफ कर्मियों से कहा गया है कि हमें अपनी रक्षा करनी होगी और प्रदर्शनकारी किसानों को पीछे धकेलना होगा. हमें किसानों को समझाना होगा कि वे बैरिकेड्स को नहीं तोड़ें. सुरक्षा बलों को प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़ने के लिए भी साफ निर्देश दिए गए हैं. 

दिल्ली की सीमाओं पर तैनात हैं 5000 से ज्यादा जवान

दिल्ली और सीमावर्ती इलाकों में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए अर्धसैनिक बलों समेत 5,000 से ज्यादा पुलिस कर्मियों को टिकरी, सिंघू और गाजीपुर में तैनात किया गया है. बता देें कि न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी देने वाले कानून की मांग को लेकर कई किसान संगठन केंद्र सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. इनमें उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब के किसान शामिल हैं. हाल ही में कई वीडियोज में हरियाणा सीमा पर बैरिकेड तोड़ने की कोशिश कर रहे प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए पुलिस की ओर से आंसू गैस छोड़ने के वीडियो भी वायरल हुए हैं.