share--v1

पटना में हुई पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक, जानें किन-किन अहम मुद्दों पर हुई चर्चा?

बिहार के पटना में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की 26वीं बैठक हुई. जिसमें कई मुद्दों का समाधान किया गया.

auth-image
Avinash Kumar Singh
फॉलो करें:

हाइलाइट्स

  • अमित शाह की अध्यक्षता में पटना में हुई पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक
  • मोदी सरकार में क्षेत्रीय परिषद की बैठकों में बढोत्तरी

नई दिल्ली: बिहार के पटना में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की 26वीं बैठक हुई. जिसमें कई मुद्दों का समाधान किया गया. बैठक के बाद अमित शाह ने कहा कि यह बैठक अच्छी रही और बैठक में कई मुद्दों का समाधान निकाला गया. कुछ मुद्दों के लिए समितियां भी बनाई गई है. 

पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक

पूर्वी राज्यों में खनिज संसाधनों का भण्डार 

पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक को संबोधित करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा "पूर्वी क्षेत्र देश की सांस्कृतिक राजधानी होने के साथ-साथ प्राचीन काल से ही कई प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों का केंद्र भी रहा है. पूर्वी क्षेत्र में शिक्षा के क्षेत्र में बहुत सारे प्रयोग हुए हैं और प्रतियोगी परीक्षाओं में भी पूर्वी क्षेत्र के बच्चे सबसे ज्यादा सफल होते हैं. पूर्वी क्षेत्र ने पूरे देश के औद्योगिक विकास की नींव रखी है और इस क्षेत्र के कई देशभक्तों ने आजादी से पहले और बाद में देश के पुनर्विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है. यह क्षेत्र खनिज संसाधनों और पानी से समृद्ध है, बिहार, उड़ीसा, झारखंड और पश्चिम बंगाल जैसे पूर्वी राज्य पूरे देश की जरूरतों के लिए लगभग सभी खनिज संसाधन प्रदान करती हैं. सहकारी संघवाद की भावना को मजबूत करने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दृष्टिकोण पिछले नौ वर्षों में साकार हुआ है."

मोदी सरकार में क्षेत्रीय परिषद की बैठकों में बढोत्तरी

नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद क्षेत्रीय परिषद की बैठकों की संख्या में बढोत्तरी पर प्रकाश डालते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने बड़ी बातें कही. उन्होंने कहा कि 2004 से मई 2014 तक क्षेत्रीय परिषदों और उनकी स्थायी समितियों की बैठकों की कुल संख्या केवल 25 थी और इस अवधि के दौरान हर साल औसतन 2.7 बैठकें आयोजित की गई. वहीं पिछले नौ सालों में जून 2014 से अब तक COVID-19 महामारी के बावजूद क्षेत्रीय परिषदों और उनकी स्थायी समितियों की हर साल कुल 56 बैठकें हुई और औसतन 6.2 रही.  इस साल अब तक कुल नौ बैठकें हो चुकी हैं, जिनमें क्षेत्रीय परिषदों की चार बैठकें और स्थायी समितियों की पांच बैठकें शामिल हैं.   बैठकों की संख्या में बढोत्तरी प्रधानमंत्री मोदी की टीम इंडिया अवधारणा को प्रदर्शित करती है. 

जोनल काउंसिल की बैठकों में 1157 मुद्दों का समाधान

जोनल काउंसिल की बैठकों में 1157 मुद्दों का समाधान किया गया है. जोनल काउंसिल की बैठकों में राजनीतिक मामलों पर मतभेद से बचना चाहिए और उदार तरीके से मामलों को सुलझाने का प्रयास करना चाहिए. जोनल काउंसिल की बैठकों के एजेंडे में राष्ट्रीय महत्व के कई मुद्दों को भी शामिल किया गया है. इनमें पोषण अभियान के माध्यम से बच्चों में कुपोषण को खत्म करना, स्कूली बच्चों की स्कूल छोड़ने की दर को कम करना और महिलाओं और बच्चों के खिलाफ बलात्कार के मामलों की त्वरित जांच और त्वरित निपटान के लिए फास्ट ट्रैक स्पेशल कोर्ट (एफटीएससी) का संचालन करना शामिल है. प्रत्येक गांव के 5 किमी के दायरे में बैंकों और इंडियन पोस्ट पेमेंट बैंक की शाखाओं की सुविधा, देश में दो लाख नई प्राथमिक कृषि ऋण समितियों (PACS) का गठन और देश में सभी मौजूदा PACS को मजबूत करना भी शामिल किया गया है.  इन मुद्दों की हर तीन महीने में मुख्यमंत्री, मंत्री और मुख्य सचिव के स्तर पर समीक्षा की जानी चाहिए. 

पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की 26वीं बैठक तमाम नेता रहे मौजूद 

गृह मंत्री और सहकारिता मंत्री अमित शाह ने बिहार के पटना में पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की 26वीं बैठक की अध्यक्षता की थी. बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और ओडिशा, पश्चिम बंगाल, बिहार और झारखंड के वरिष्ठ मंत्री शामिल हुए. बैठक में अंतर राज्य परिषद सचिवालय के सचिव, सदस्य राज्यों के मुख्य सचिव, राज्य सरकारों और केंद्रीय मंत्रालयों और विभागों के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे. बैठक में खनन, कुछ मदों पर केंद्रीय वित्तीय सहायता, बुनियादी ढांचे का निर्माण, भूमि अधिग्रहण और भूमि हस्तांतरण, जल बंटवारा, प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण योजना के कार्यान्वयन, राज्य पुनर्गठन और क्षेत्रीय स्तर पर आम हित के मुद्दों से संबंधित मुद्दों पर भी चर्चा की गई. बैठक में सभी चार राज्यों बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और ओडिशा  ने अपने-अपने राज्यों में लागू की जा रही प्रोजेक्ट का प्रेजेंटेशन दिया. यह राज्यों को भी सकारात्मक कदम उठाने के लिए प्रेरित करेंगी.

Also Read

First Published : 10 December 2023, 09:43 PM IST