menu-icon
India Daily
share--v1

बांग्लादेशी सांसद के शव के टुकड़ों की खोज जारी! हैवानियत की रोंगटे खड़े कर देने वाली कहानी

Bangladeshi MP Murder Case: बांग्लादेशी सांसद अनवारुल अजीम की हत्या मामले में बंगाल और ढाका पुलिस पैरलल जांच कर रही है. जांच में दोनों पुलिस ने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं.

auth-image
India Daily Live
bangladesh mp anwarul azim butcher chopped body  West Bengal Dhaka police Investigation
Courtesy: Photo Credit- Social Media

Bangladeshi MP Murder Case: बांग्लादेश के सांसद की हत्या मामले में ढाका और बंगाल पुलिस ने खुलासा किया है कि हत्या से पहले लड़की का लालच देकर सांसद को आरोपियों ने फ्लैट पर बुलाया था. फिर आरोपियों ने मिलकर सांसद की गला घोंटकर हत्या कर दी. इसके बाद मुंबई के कसाई ने बेरहमी से शव के टुकड़े-टुकड़े कर दिए. कोलकाता और ढाका पुलिस ने सांसद को फंसाने वाली लड़की, हत्या के बाद बेरहमी से शव के टुकड़े करने वाले कसाई और दो अन्य को गिरफ्तार किया है. फिलहाल, सांसद के शव के टुकड़ों की खोज जारी है. 

बांग्लादेशी सांसद अनवारुल अजीम की हत्या मामले की जांच में जुटी टीम ने खुलासा किया है कि उन्हें लड़की का लालच देकर कोलकाता के न्यू टाउन इलाके में एक किराए के फ्लैट में ले जाया गया था. जांचकर्ताओं के अनुसार, कसाई ने पहले उनकी गला दबाकर हत्या की और फिर उनकी खाल उतारकर उसके शरीर को छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर शहर की सीमा के भीतर विभिन्न स्थानों पर फेंक दिया.

बांग्लादेश जाएगी बंगाल सीआईडी

पश्चिम बंगाल की एक सीआईडी ​​टीम शीघ्र ही बांग्लादेश का दौरा करेगी, जबकि ढाका मेट्रोपॉलिटन पुलिस की एक टीम कोलकाता का दौरा करेगी. बांग्लादेश में सत्तारूढ़ अवामी लीग पार्टी के तीन बार सांसद रहे अजीम की हत्या के मामले में जांच में जुटी टीम ने जानकारी दी कि सांसज अजीम के दोस्त और बिजनेस पार्टनर मोहम्मद अख्तरुज्जमां के मास्टरमाइंड होने का शक है. उसने कोलकाता के न्यू टाउन इलाके में किराए पर फ्लैट लिया था. सांसद की हत्या के लिए उसने कसाई, एक लड़की और दो अन्य लोगों को सुपारी दी थी. संदेह है कि 13 मई को वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी कोलकाता से अलग-अलग इलाकों में निकल गए. वारदात के एक दिन पहले ही सांसद इलाज के लिए कोलकाता आए थे. 

सांसद 13 मई के बाद से लापता थे, लेकिन जब बुधवार को बांग्लादेश में महिला और दो अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया गया, तब सांसद की हत्या की जानकारी सामने आई. गुरुवार और शुक्रवार की रात को पश्चिम बंगाल सीआईडी ​​ने पेशेवर कसाई जिहाद हवलदार को गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस ने बताया कि अख्तरुज्जमां ने उसे हत्या की सुपारी दी थी और 2 महीने पहले कोलकाता लेकर आया था. जांच में जुटी बंगाल सीआईडी के एक अधिकारी के मुताबिक, हमने एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया है, जो पेशेवर कसाई है. उसे मुंबई से गिरफ्तार किया गया है. आरोपी कसाई जिहाद हवलदार बांग्लादेश के दिघोलिया पुलिस स्टेशन के अंतर्गत बराकपुर का रहने वाला है.

कसाई ने सीआईडी अफसरों को बताई पूरी कहानी

सीआईडी ​​अधिकारियों ने दावा किया कि हवलदार ने कबूल किया है कि अख्तरुज्जमां के आदेश पर उसने और तीन अन्य बांग्लादेशी नागरिकों ने फ्लैट में सांसद की गला घोंटकर हत्या कर दीय शुरुआती जांच से पता चलता है कि उसने शव की खाल उतारी, पहचान मिटाने के लिए लाश को टुकड़ों में काटा और उन्हें पॉलीथीन के पैकेट में भर दिया. फिर हड्डियों को भी छोटे-छोटे टुकड़ों में काटा और उन्हें अलग-अलग पैक किया. फिर उन पैकेट को कोलकाता में अलग-अलग अस्पतालों में फेंक दिया.

ढाका और कोलकाता कोर्ट में हुई आरोपियों की पेशी

हवलदार को शुक्रवार को बारासात कोर्ट में पेश किया गया. हालांकि सीआईडी ​​ने सांसद के शव को बरामद करने और अन्य जानकारी जुटाने के लिए लंबी हिरासत की मांग की, लेकिन कोर्ट ने उसे 12 दिनों की हिरासत में दे दिया. वहीं, ढाका मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने शुक्रवार को महानगर सत्र न्यायाधीश अदालत में महिला संदिग्ध सिलास्ती रहमान सहित तीन गिरफ्तार व्यक्तियों को भी पेश किया.

बांग्लादेश से अतिरिक्त सरकारी वकील मोहम्मद अब्दुस सत्तार दुलाल ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि सिमुल भुइयां उर्फ ​​अमानुल्लाह, सिलास्ती रहमान और तनवीर भुइयां को अदालत में पेश किया गया और आठ दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया. आरोपियों से पूछताछ के बाद मामले का खुलासा होगा. अब तक यह संदेह है कि हत्या की साजिश अख्तरुज्जमां उर्फ ​​शाहीन ने रची थी, जो सांसद का पुराना दोस्त और बिजनेस पार्टनर था.

दुलाल ने कहा कि अख्तरुज्जमां ने साजिश रची और अन्य आरोपियों को अपने साथ लाया. संदेह है कि लड़की का लालच देकर सांसद को फ्लैट पर बुलाया गया था. ढाका मेट्रोपॉलिटन पुलिस सूत्रों ने बताया कि सांसद अजीम और अख्तरुज्जमां बचपन के दोस्त थे और माना जाता है कि वे सोने के कारोबार में पार्टरन थे. संदेह है कि कारोबार में शामिल पैसों को लेकर उनमें मतभेद हुआ.