share--v1

देश के 5 ऐसे मुख्यमंत्री, जिन्होंने जेल जाने से पहले CM पद से दिया इस्तीफा

CM Who Resigned Before Arrest: अरविंद केजरीवाल देश के पहले ऐसे मुख्यमंत्री हैं, जिन्होंने गिरफ्तारी के बाद भी मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा नहीं दिया है. उनसे पहले जिन मुख्यमंत्रियों को गिरफ्तार किया गया, उन्होंने अरेस्ट किए जाने से ठीक पहले मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. आइए, जानते हैं कि इस लिस्ट में कौन-कौन शामिल हैं.

auth-image
India Daily Live

CM Who Resigned Before Arrest: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल तिहाड़ जेल में कैद हैं. राउज एवेन्यू कोर्ट ने उन्हें 15 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया. केजरीवाल को तिहाड़ में जेल नंबर 2 में रखा गया है. अरविंद केजरीवाल से पहले देश के किसी भी मौजूदा मुख्यमंत्री को गिरफ्तार नहीं किया गया था. मुख्यमंत्री रहते हुए गिरफ्तार होने वाले केजरीवाल पहले मुख्यमंत्री हैं. इससे पहले जितने भी मुख्यमंत्रियों को अरेस्ट किया गया, उन्होंने गिरफ्तारी से ठीक पहले अपने पद से इस्तीफा दिया था. केजरीवाल को छोड़ दिया जाए तो इस लिस्ट में सबसे ताजा मामला झारखंड का है. 

हेमंत सोरेन
31 जनवरी 2024 को जमीन घोटाला केस में झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को गिरफ्तार किया गया था. गिरफ्तारी से ठीक पहले हेमंत सोरेन ने राजभवन जाकर राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपा था. उनके इस्तीफा देने के बाद झारखंड मुक्ति मोर्चा के सीनियर नेता चंपई सोरेन को झारखंड का नया मुख्यमंत्री चुना गया था.

लालू प्रसाद यादव
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के चीफ लालू यादव को पहली बार मई 1997 में गिरफ्तार किया गया था. लालू यादव की गिरफ्तारी चारा घोटाला मामले में की गई थी. गिरफ्तारी से ठीक पहले उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था.  उनके इस्तीफा देने के बाद विधायक दल ने राबड़ी देवी को अपना नेता चुना था, जिसके बाद राबड़ी देवी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी.

जे जयललिता
29 सितंबर 2014 को तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता ने भी गिरफ्तारी से पहले मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था. जयललिता की गिरफ्तारी आय से अधिक संपत्ति के मामले में की गई थी. जयललिता की गिरफ्तारी के बाद ओ पनीरसेल्वम को तमिलनाडु का मुख्यमंत्री बनाया गया था.

बीएस येदियुरप्पा
अवैध खनन घोटाला मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद बीएस येदियुरप्पा ने 31 जुलाई 2011 को कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद अक्टूबर में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था.

उमा भारती
8 दिसंबर 2003 को उमा भारती ने मध्यप्रदेश की मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, लेकिन कर्नाटक के हुबली से जुड़े एक मामले में वारंट जारी होने के बाद उन्होंने 23 अगस्त 2004 को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था.

अब जान लीजिए, क्या होता है जेल मैनुअल?

हर राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में एक जेल मैनुअल होता है. दिल्ली के तिहाड़ जेल मैनुअल के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी की जेलों में 7 दिनों 2 बार मुलाकात की अनुमति दी जाती है. ये नियम विचाराधीन कैदी और दोषी करार दिए गए, दोनों पर लागू होता है.

तिहाड़ जेल मैनुअल के मुताबिक, अगर कोई दोषी या विचाराधीन कैदी यहां लाया जाता है, तो उसे जेल प्रशासन को 10 नाम बताने होते हैं. जेल प्रशासन की अनुमति के बाद 10 में से किसी एक को जेल में फोन करनी की अनुमति दी जाती है. 

जेल मैनुअल के मुताबिक, एक बार में सिर्फ 3 लोगों को कैदी से मुलाकात की अनुमति दी जाती है. इस दौरान मुलाकाती और कैदी के बीच दूरी होती है. तिहाड़ में कैदी और मुलाकाती के बीच बातचीत के लिए एक समय तय किया गया है, जो सुबह साढ़े 9 बजे से दोपहर साढ़े 12 बजे तक होता है.

Also Read