share--v1

Holi Bhai Dooj 2024: जानें कब है होली वाली भाई दूज और किस शुभ मुहूर्त में करें भाई को तिलक?

Holi Bhai Dooj 2024: हर साल में दो बार भाई दूज का पर्व मनाया जाता है. यह होली और दीपावली बाद मनाया जाता है. इस दिन बहनें भाइयों का तिलक करके उनकी लंबी उम्र की कामना करती हैं. 

auth-image
India Daily Live

Holi Bhai Dooj 2024: होली पर्व के बाद पड़ने वाली द्वितीया तिथि को भाईदूज का पर्व मनाया जाता है. यह पर्व भी रक्षाबंधन और दीपावली की दूज की तरह ही भाई-बहन के प्यार का प्रतीक है. इस दिन बहनें अपने भाइयों को तिलक करती हैं और उनकी लंबी उम्र की कामना करती है. 

होली का पर्व पूरे देश में बेहद धूमधाम से मनाया जाता है. होलिका दहन के बाद रंगों से होली खेली जाती है. होलिका दहन पूर्णिमा के दिन होता है और रंगों से होली चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा के दिन खेली जाती है. इसके अगले दिन चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि को भाई दूज का पर्व मनाया जाता है. 

साल 2024 में कब होली वाली भाईदूज?

पूरे साल में दो बार भाईदूज का पर्व मनाया जाता है. एक होली के बाद और दूसरा दीपावली के बाद मनाया जाता है. हिंदू पंचांग के अनुसार साल 2024 में चैत्र माह की द्वितीया तिथि की शुरुआत 26 मार्च की दोपहर 02 बजकर 55 मिनट से हो रही है. वहीं, इस तिथि का समापन 27 मार्च की शाम 05 बजकर 06 मिनट पर होगा. उदया तिथि को देखते हुए 27 मार्च को होली भाई दूज का पर्व मनाया जाएगा. 

क्यों मनाते हैं भाईदूज?

 शास्त्रों के अनुसार, इस दिन भगवान यम अपनी बहन यमुना से मिलने आए थे. इस पर यमुना के उनका खूब अच्छे से स्वागत किया था. इसके बाद यमुना ने भगवान यम के माथे पर तिलक लगाया था और उनको मिठाई खिलाई थी. इस कारण भगवान यम अपनी बहन यमुना से काफी खुश हुए थे और यह वरदान दिया था कि जो भी भाई इस दिन अपनी बहन से तिलक कराएगा, उसे लंबी उम्र के साथ ही समृद्धि की प्राप्ति होगी. 

इस शुभ मुहूर्त में करें भाई को तिलक

होली भाई दूज के दिन तिलक करने के इस बार दो मुहूर्त हैं. पहला मुहूर्त सुबह 10 बजकर 54 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 27 मिनट तक है. इसके साथ ही दूसरा मुहूर्त दोपहर 3 बजकर 31 मिनट से शाम 5 बजकर 04 मिनट तक रहने वाला है. 

इस विधि से करें तिलक

भाई दूज पर सुबह उठकर स्नान करें. इसके साथ ही साफ-सुथरे वस्त्र धारण करें. इसके बाद केसर और लाल चंदन के तिलक तैयार करें. सबसे पहले भगवान गणेश और श्रीहरिविष्णु का तिलक करें. इसके बाद भाी को उत्तर या फिर पूर्व दिशा में बैठाकर तिलक करें. तिलकर करने के बाद भाई को मिठाई खिलाएं. इसके साथ ही उनकी लंबी उम्र की कामना करें. ऐसे में भाई भी बहन को उपहार दे सकते हैं. 

Disclaimer : यहां दी गई सभी जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.  theindiadaily.com  इन मान्यताओं और जानकारियों की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह ले लें.


 

Also Read