menu-icon
India Daily
share--v1

Ganesh Visarjan 2023 : अनंत चतुर्दशी पर इस शुभ मुहूर्त में दें बप्पा को विदाई

Ganesh Visarjan 2023: 28 सितंबर 2023 को गणेश उत्सव का समापन होगा. इस दिन अनंत चतुर्दशी का पर्व भी मनाया जाता है.

auth-image
Mohit Tiwari
Ganesh Visarjan 2023 : अनंत चतुर्दशी पर इस शुभ मुहूर्त में दें बप्पा को विदाई

Ganesh Visarjan 2023: गणेश उत्सव का समापन 28 सितंबर 2023 गुरुवार को होगा. इस दिन धूमधाम से गणपति प्रतिमा विसर्जन किया जाता है. भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को अनंत चतुर्दशी मनाई जाती है. इसी दिन गणेश प्रतिमा विसर्जन भी किया जाता है. मान्यता है कि इस दिन भगवान गणेश अपने लोक में लौटकर वापस जाते हैं. इसके साथ ही वे भक्तों की सारी परेशानी, संकट और विघ्नों को अपने साथ ले जाते हैं. धार्मिक मान्यता के गणपति प्रतिमा विसर्जन से साल भर भक्तों के घर में धन, सुख और समृद्धि बनी रहती है.

गणेश प्रतिमा विसर्जन मुहूर्त

भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि की शुरुआत 27 सितंबर 2023 की रात 10:18 पर होगी. यह 28 सितंबर 2023 को शाम 06:49 तक रहेगी.

गणेश प्रतिमा विसर्जन सुबह मुहूर्त - सुबह 6:11 से सुबह 7:40 तक

गणेश विसर्जन दोपहर मुहूर्त - दोपहर 10:42 से दोपहर 1:42 तक

गणेश विसर्जन शाम मुहूर्त - शाम 04:41 से शाम 9:10 तक

गणेश विसर्जन रात्रि मुहूर्त - रात्रि 12.12 से सुबह 1:42 सितंबर 29 तक

गणेश प्रतिमा विसर्जन विधि

इस दिन भगवान गणेश की विधि-विधान से पूजा करें और आप लाल या पीले रंग के ही वस्त्र पहनें. इसके साथ ही दूर्वा, मोदक, लड्डू, सिंदूर, कुमकुम, अक्षत, पान, सुपारी, लौंग, इलायची, हल्दी, नारियल, फूल, इत्र, फल आदि अर्पित करें. इसके साथ ही हवन और बप्पा की आरती करें. इसके बाद एक पाट पर गंगाजल छिड़कें, उसपर स्वास्तिक बनाकर लाल कपड़ा बिछाएं. इसके बाद गणेश प्रतिमा और उन्हें अर्पित की गई सारी सामग्री पाट पर रखें और फिर ढोल-नंगाड़ों के साथ प्रतिमा विसर्जन के लिए निकलें. नदी या तालाब के तट पर गणपति की पुनः आरती करें और उन्हें केले का प्रसाद अर्पित करें. इसके बाद इन 10 दिनों में हुईं गलतियों के लिए क्षमा याचना करें और अगले वर्ष पुनः पधारने की कामना करें.

इस मंत्र का जाप करें

प्रतिमा विसर्जित करते समय 'ॐ गच्छ गच्छ सुरश्रेष्ठ, स्वस्थाने परमेश्वर। यत्र ब्रह्मादयो देवाः, तत्र गच्छ हुताशन।' इस मंत्र का जाप करें.

प्रतिमा के साथ ही उनको अर्पित सुपारी, पान, लौंग, इलायची और नारियल भी विसर्जित कर दें. इसके साथ ही स्थापना कलश पर रखे नारियल को भी जल में प्रवाहित कर दें. इसे फोड़ना नहीं चाहिए.

गणेश प्रतिमा विसर्जन पूजन मंत्र

गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान आप ('ॐ यान्तु देवगणा: सर्वे पूजामादाय मामकीम्। इष्टकामसमृद्धयर्थं पुनर्अपि पुनरागमनाय च॥', ऊँ मोदाय नम:, ऊँ प्रमोदाय नम:,ऊँ सुमुखाय नम:, ऊँ दुर्मुखाय नम:, ऊँ अविध्यनाय नम:,  ऊँ विघ्नकरत्ते नम:) मंत्रों का जाप करें.

Disclaimer : यहां दी गई सभी जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.  theindiadaily.com   इन मान्यताओं और जानकारियों की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह ले लें.