menu-icon
India Daily
share--v1

Muzaffarpur: डॉक्टर का अजब-गजब कारनामा! हर्निया के ऑपरेशन के बदले बुजुर्ग मरीज की कर दी नसबंदी

Muzaffarpur: बिहार के मुजफ्फरपुर जिले से डॉक्टर के गजब कारनामे का खुलासा हुआ है. हर्निया का ऑपरेशन कराने गए मरीज की डॉक्टर ने नशबंदी कर दी. तीन महीने बाद मामला सामने आने के बाद सिविल सर्जन ने जांच के आदेश दिए हैं.

auth-image
India Daily Live
 Muzaffarpur

Muzaffarpur: बिहार के मुजफ्फरपुर में हर्निया के ऑपरेशन कराने गए मरीज की डॉक्टर ने नशबंदी कर दी. बुजुर्ग की जिंदगी से किया खिलवाड़..हर्निया की जगह डॉक्टर ने काट दी दूसरी नस..मरीज का तीन माह पहले हुआ था ऑपरेशन..साढ़े तीन माह बाद मामले का हुआ उजागर..मरीज के तकलीफ बढ़ने पर सरकारी अस्पताल में जांच कराई तो मामले का चल सका पता..सिविल सर्जन ने दिए जांच के आदेश..औराई प्रखंड का मामला

मुजफ्फरपुर के एक डॉक्टर के कारनामे से स्वास्थ्य महकमा एक बार फिर चर्चा में है. डॉक्टर ने अजब कारनामा कर दिया है. हर्निया के ऑपरेशन कराने गए मरीज की डॉक्टर ने नशबंदी कर दी. पता चलने पर मरीज की शिकायत के बाद सिविल सर्जन ने जांच के आदेश दिये हैं. डॉक्टर की लापरवाही के शिकार मरीज का नाम पच्चू सहनी बताया जा रहा है. 

बिहार के सीतामढ़ी जिले का मामला 

जानकारी के अनुसार यह मामला बिहार के सीतामढ़ी जिले के महीसौठा थाना क्षेत्र के बोखरा गांव का है. जहां के रहने वाले पच्चू सहनी को पेशाब से संबंधित बीमारी था. जिसको लेकर उन्होंने औराई स्थित एक निजी नर्सिंग होम में जांच कराई. इस दौरान जांच में पता चला की हर्निया है. जिसके बाद डॉक्टर ने ऑपरेशन कराने की सलाह दी. नर्सिंग होम की सलाह पर साढ़े तीन महीना पहले औराई के निजी अस्पताल में मरीज ने हर्निया का ऑपरेशन कराया था. 

हर्निया के ऑपरेशन के बदले नसबंदी

ऑपरेशन के बाद जब उनकी समस्या कम होने के बजाय और बढ़ गई तो उन्होंने जांच कराई. दरअसल बुजुर्ग मरीज की डॉक्टर ने हर्निया के ऑपरेशन के बदले दूसरी ट्यूब काट कर नसबंदी कर दिया है. जिसके बाद से बुजुर्ग मूत्र संबंधी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. जांच में बात सामने आने के  बाद मरीज ने इसकी शिकायत पहले अस्पताल से की और उसके बाद में सिविल सर्जन के सामने मामला पहुंचा. 

इस मामले में जांच के आदेश 

मामला संज्ञान में आने के बाद स्वास्थ्य विभाग में खलबली मच गई. सिविल सर्जन डॉक्टर अजय कुमार ने कहा की मामला संज्ञान में आया है और इस संबंध में जांच जारी है. जांच रिपोर्ट में यह बात सामने आई कि डॉक्टर ने हर्निया ऑपरेशन के बजाय उनकी नसबंदी कर दी है. किन-किन लोगों की लापरवाही से हुआ है यह जानने के लिए पूरे मामले की जांच का आदेश दे दिए गए हैं. प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी से पूरी रिपोर्ट मांगी गई है. जल्द ही टीम बनाकर दोषी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

मरीज पच्चू सहनी ने सुनाई आपबीती 

इस घटना को लेकर मरीज पच्चू सहनी का कहना है कि हर्निया का ऑपरेशन कराने गए थे. पूरा पेट चीर दिया और नस को काट दिया. साढ़े तीन महीना पहले साक्षी हॉस्पिटल मे ऑपरेशन कराए थे. ऑपरेशन के बाद परेशानी और बढ़ गई. बुजुर्ग मरीज ने बताया की ऑपरेशन में चालीस हजार की मांग की गई. तीस हजार लेकर ऑपरेशन किया. अभी तक लाखो रूपया दवा के खर्च में लग गया है. अस्पताल का चक्कर लगाने के बाद भी डॉक्टर नहीं मिल रहे हैं.