menu-icon
India Daily
share--v1

Blood Donation: करेंगे रक्तदान तो मोटापे से लेकर हार्ट अटैक जैसी गंभीर बीमारियां नहीं करेंगी परेशान

Importance Of Blood Donation: रक्तदान करने से शरीर में कमजोरी नहीं आती है, बल्कि इससे कई गंभीर बीमारियों का खतरा कम हो जाता है.

auth-image
Mohit Tiwari
Blood Donation: करेंगे रक्तदान तो मोटापे से लेकर हार्ट अटैक जैसी गंभीर बीमारियां नहीं करेंगी परेशान

Blood Donation For Health: रक्तदान को महादान माना गया है. इसको करने से आपकी सेहत को कई प्रकार के फायदे होते हैं. ब्लड डोनेट करने से कमजोरी नहीं आती है. इससे आपकी बॉडी हेल्दी रहती है. रक्तदान करके आप कई लोगों की जान बचा सकते हैं. इसके साथ ही आप कई तरह की गंभीर बीमारियों से भी बचे रहेंगे. ब्लड डोनेट करने से शरीर स्वस्थ रहता है. इससे वजन कंट्रोल में रहता है. इसके साथ ही इससे हार्ट भी हेल्दी रहता है और कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा भी कम हो जाता है.

जागरूकता की है कमी

अभी लोगों के अंदर ब्लड डोनेशन को लेकर जागरूकता की कमी है. यही कारण है कि लोगों को लगता है कि ब्लड डोनेट करने से कमजोरी आ जाएगी. जबकि ब्लड डोनेट करने से हेल्थ अच्छी होती है. इसके अलावा कई बीमारियों से भी बचाव होता है.

इन बीमारियों से होता है बचाव

रक्तदान करने से शरीर से बैड आयरन बाहर निकल जाता है. इसके साथ ही इससे वजन भी कंट्रोल में रहता है. इसके साथ ही कैंसर होने का खतरा भी काफी हद तक कम हो जाता है.

हेल्दी रहता है हार्ट- ब्ल्ड डोनेशन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इससे हार्ट हेल्दी रहता है और जो लोग नियमित रक्तदान करते हैं उन्हें दिल की बीमारियों और स्ट्रोक का खतरा कम रहता है. ब्लड में आयरन अधिक होने पर हार्ट की हेल्थ पर असर पड़ता है, वहीं, रक्तदान से आयरन की मात्रा बैलेंस्ड रहती है.

कैंसर का होता है रिस्क कम- जो लोग समय-समय पर रक्तदान करते हैं. उनमें शरीर का आयरन बैलेंस्ड रहता है और इससे कई तरह के कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है. रक्तदान से कैंसर का जोखिम कम होता है.

कम होता है मोटापा- ब्लड डोनेशन से वजन कम होता है और ज्यादा कैलोरी बर्न होती है. ब्लड डोनेट करने के बाद रेड ब्लड सेल्स का लेवल कुछ महीनों में बराबर हो जाता है. अगर आप हेल्दी डाइट और एक्सरसाइज करते हैं तो मोटापा तेजी से कम हो जाता है.

रेड ब्लड सेल्स का बढ़ता है प्रोडक्शन- जो लोग ब्लड डोनेट करते हैं, उनके शरीर में खून की कमी पूरी करने की प्रक्रिया तेज हो जाती है, जिससे शरीर में रेड ब्लड सेल्स बढ़ जाती हैं और आपकी हेल्थ अच्छी होती है.

कितने दिन में करना चाहिए रक्तदान

डॉक्टर्स की मानें तो स्वस्थ व्यक्ति को हर तीन महीने में ब्लड डोनेट करना चाहिए. 90 से 120 दिन के भीतर ब्लड सेल्स डेड हो जाती हैं और नई सेल्स बनती हैं. इसी कारण डॉक्टर्स हर तीन माह में रक्तदान की सलाह देते हैं. 

Disclaimer : यहां दी गई सभी जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.  theindiadaily.com  इन मान्यताओं और जानकारियों की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह ले लें.