menu-icon
India Daily
share--v1

यूरोप यात्रा होगी महंगी, क्या है शेंगेन वीजा जिसका बढ़ा रेट

यूरोपीय आयोग ने शेंगेन वीज़ा शुल्क में 12 प्रतिशत की वृद्धि को मंजूरी दे दी है, जो 11 जून, 2024 से दुनिया भर में लागू होगी.

auth-image
India Daily Live
europe tour

यूरोप घुमने जाने वालों को अब कुछ ज्यादा पैसे खर्च करने पड़ेंगे. सरकार ने शेंगेन वीज़ा की शुल्क को बढ़ाने की मंजूरी दे दी है. स्लोवेनिया के विदेश और यूरोपीय मामलों के मंत्रालय के अनुसार, यूरोपीय आयोग ने शेंगेन वीज़ा शुल्क में 12 प्रतिशत की वृद्धि को मंजूरी दे दी है. नया शुल्क 11 जून 2024 से दुनिया भर में लागू होगी. 

नई शुल्क स्ट्रक्चर में वयस्क आवेदकों को €90 (पहले €80) और 6-12 वर्ष की आयु के बच्चों को €45 (पहले €40) का भुगतान करना होगा. अपने नागरिकों को वापस लाने के यूरोपीय संघ के प्रयासों में असहयोग करने वाले देशों को और भी अधिक बढ़ोतरी का सामना करना पड़ सकता है.  एक यूरो (€) 90.45 भारतीय रुपये के बराबर है. स्लोवेनियाई सरकार ने कहा कि यूरोपीय आयोग ने दुनिया भर में अल्पकालिक शेंगेन वीजा शुल्क में 12 प्रतिशत की वृद्धि करने का निर्णय लिया. 

इस फैसले से खासकर तुर्की के नागरिकों में असंतोष फैल गया है जो यूरोपीय संघ के साथ वीजा-मुक्त समझौते की उम्मीद कर रहे हैं. 2023 में, शेंगेन क्षेत्र को 10.3 मिलियन से अधिक अल्पकालिक वीज़ा आवेदन प्राप्त हुए, जो 2022 से 37% की वृद्धि है. 

क्या है शेंगेन वीजा?

शेंगेन वीजा, यूरोपीय देशों में वीज़ा-मुक्त यात्रा की अनुमति देता है. शेंगेन क्षेत्र में 27 यूरोपीय संघ के देशों में से 25 देश शामिल हैं, इनमें आयरलैंड गणराज्य और साइप्रस शामिल नहीं हैं. शेंगेन क्षेत्र में आइलैंड, लिकटेंस्टीन, नॉर्वे और स्विट्जरलैंड के साथ-साथ बेल्जियम, फ्रांस, जर्मनी, इटली और स्पेन जैसे देश शामिल हैं. शेंगेन वीज़ा के जरिए 180 दिन की अविधि में अधिकतम 90 दिनों तक छोटे प्रवास के लिए परमिशन होती है. 

29 यूरोपीय देश शामिल 

शेंगेन क्षेत्र में 29 यूरोपीय देश शामिल हैं, जो शेंगेन वीज़ा धारकों को अल्प प्रवास के लिए वीज़ा-मुक्त यात्रा की पेशकश करते हैं. इनमें ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, बुल्गारिया, क्रोएशिया, चेक गणराज्य, डेनमार्क, एस्टोनिया, फिनलैंड, फ्रांस, जर्मनी, ग्रीस, हंगरी, आइसलैंड, इटली, लातविया, लिकटेंस्टीन, लिथुआनिया, लक्ज़मबर्ग, माल्टा, नीदरलैंड और नॉर्वे आधिकारिक तौर पर शेंगेन क्षेत्र नहीं बल्कि शामिल हैं.