menu-icon
India Daily
share--v1

चेक रिपब्लिक से निखिल गुप्ता का अमेरिका में प्रत्यर्पण, गुरपतवंत सिंह मर्डर प्लॉट में आरोपी, क्या करने वाला है भारत?

खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या के आरोप में भारतीय नागरिक निखिल गुप्ता को चेक रिपब्लिक से अमेरिका प्रत्यर्पित किया गया है. निखिल गुप्ता की उम्र 52 साल है और उन्हें पिछले साल चेक रिपब्लिक में गिरफ्तार किया गया था. उन्हें अमेरिका के एक डिटेंशन सेंटर में रखा गया है.

auth-image
India Daily Live
Terrorist Pannun
Courtesy: Social Media

आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या के आरोप में भारतीय नागरिक निखिल गुप्ता को चेक रिपब्लिक से अमेरिका प्रत्यर्पित किया गया है. मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि निखिल गुप्ता की उम्र 52 साल है और उन्हें पिछले साल चेक रिपब्लिक में गिरफ्तार किया गया था. रविवार को ब्यूरो ऑफ प्रिज़न्स की वेबसाइट पर कैदी के नाम से खोज करने पर पता चला कि 52 वर्षीय गुप्ता को ब्रुकलिन के मेट्रोपॉलिटन डिटेंशन सेंटर में रखा गया है. सोमवार को उन्हें न्यूयॉर्क की संघीय अदालत में पेश किये जाने की उम्मीद है. 

आरोप है कि गुप्ता ने पन्नुन को मारने के लिए एक हत्यारे को हायर किया था और 15,000 डॉलर का अग्रिम भुगतान किया था. उनका आरोप है कि इसमें एक भारतीय सरकारी अधिकारी शामिल था. गुप्ता का प्रत्यर्पण अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन की वार्षिक आईसीईटी वार्ता के लिए नई दिल्ली यात्रा से पहले हुआ है. उम्मीद है कि सुलिवन अपने भारतीय समकक्ष अजीत डोभाल के समक्ष यह मुद्दा उठाएंगे.

पन्नू को मारने की साजिश रची थी?  

पन्नू की हत्या की कथित साजिश में भारतीय नागरिक निखिल गुप्ता का नाम सामने आया था. अमेरिकी अधिकारियों का आरोप है कि एक अज्ञात भारतीय सरकारी कर्मचारी के निर्देश पर निखिल गुप्ता ने अमेरिका में पन्नू को मारने की साजिश रची थी. हालांकि भारत ने पन्नून हत्या की साजिश में अपनी संलिप्तता से इनकार किया है और अमेरिका के आरोपों की जांच के लिए एक जांच समिति गठित की है. निखिल गुप्ता ने भी अपने वकील के माध्यम से आरोपों से इनकार किया है और कहा है कि उन पर "अनुचित आरोप" लगाए गए हैं.

भारत के लिए आतंकवादी है गुरपतवंत सिंह पन्नू

गुरपतवंत सिंह पन्नू के पास अमेरिका और कनाडा की दोहरी नागरिकता है और वह आतंकवाद के आरोपों में भारत में वांछित है. उसे केंद्रीय गृह मंत्री ने सख्त आतंकवाद विरोधी कानून गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम के तहत आतंकवादी घोषित किया गया. अमेरिकी मीडिया वॉशिंगटन पोस्ट ने अपनी रिपोर्ट में यह दावा किया है. रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिकी और भारतीय सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि पन्नू की हत्या की पूरी प्लानिंग RAW के एक सीनियर अधिकारी  ने की थी.

पिछले साल फाइनेंशियल टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया था कि अमेरिका में पन्नू की हत्या की साजिश रची गई थी, जिसे नाकाम कर दिया था. इस मामले को अमेरिका ने भारत के सामने उठाया था. मामले में एक भारतीय नागरिक निखिल गुप्ता पर पन्नू की हत्या की कथित साजिश रचने का आरोप लगा था.