menu-icon
India Daily
share--v1

Israel Hamas War: वैश्विक संगठनों को नेतन्याहू ने लगाई फटकार- 'तब कहां थे जब इजरायली महिलाओं...'

Israel Hamas War: इजरायली पीएम ने अपने ऑफिशियल अकाउंट पर कहा कि मैं महिला अधिकार समूहों, मानवाधिकार समूहों से पूछता हूं कि जब आपने इजरायली महिलाओं के रेप, अत्याचार, हिंसा और यौन उत्पीड़न के बारे में सुना तब कहां थे और क्यों चुप रहे? 

auth-image
Shubhank Agnihotri
benjamin

हाइलाइट्स

  • मैंने बंधकों के परिजनों से सुनी हैं कहानियां- नेतन्याहू 
  • बंधकों की रिहाई के लिए हमास पर कड़ा हमला जरूरी था  

Israel Hamas War: इजरायल और हमास के मध्य सीजफायर के बाद फिर से जंग शुरू हो गई है. इस बीच प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने वैश्विक संगठनों को जमकर फटकार लगाई है. बेंजामिन ने अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों पर निशाना साधा है.

उन्होंने कहा कि हमास ने जब महिलाओं पर अत्याचार किये, जुल्म ढाए तब वैश्विक संगठन कहां थे?

इजरायली पीएम ने अपने ऑफिशियल अकाउंट पर कहा कि मैं महिला अधिकार समूहों, मानवाधिकार समूहों से पूछता हूं कि जब आपने इजरायली महिलाओं के रेप, अत्याचार, हिंसा और यौन उत्पीड़न के बारे में सुना तब कहां थे और क्यों चुप रहे? 

मैंने बंधकों के परिजनों से सुनी हैं कहानियां- नेतन्याहू 

द टाइम्स ऑफ इजरायल की रिपोर्ट के मुताबिक, बेंजामिन नेतन्याहू ने तेल अवीव की प्रेस वार्ता में कहा कि उन्होंने हमास की कैद से रिहा किये गए बंधकों के परिजनों से मुलाकात की है.

उन्होंने कहा कि इस दौरान उन्होंने उनसे दिल दहला देने वाली कहानियां सुनी हैं. यह वही है जो आप सुन रहे हैं मैंने भी उनसे यौन शोषण, बलात्कार, क्रूरतापूर्ण अत्याचारों के बारे में सुना है.

 

बंधकों की रिहाई के लिए हमास पर कड़ा हमला जरूरी था  

पीएम बेंजामिन ने कहा कि क्यों किसी महिला संगठन ने हमास के इन कुकृत्यों पर एक भी शब्द नहीं कहा. पीएम ने सवाल पूछा कि आप इसलिए चुप हैं क्योंकि पीड़ित महिलाएं यहूदी हैं?

इस दौरान इजरायल के रक्षा मंत्री यौव गैलेंट और मिनिस्टर बेनी गैंट्स भी मौजूद थे. इजरायली रक्षा मंत्री ने कहा कि हमास पर कड़े हमले और दवाब बनाना जरूरी था तभी उसने बंधकों को रिहा किया. इजायल ने इसीलिए गाजा में अपने जमीनी हमले तेज किए. 

अमेरिकी राष्ट्रपति ने की है निंदा 

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने इजरायली महिलाओं के साथ हुई यौन हिंसा पर अपनी प्रतिक्रिया दी है.

उन्होंने इस घटना को निंदनीय बताया है.आपको बता दें कि सात अक्टूबर को हमास ने इजरायल पर रॉकेटों के माध्यम से ताबड़तोड़ हमले किये थे.

इस दौरान दक्षिणी इजरायल में आयोजित एक म्यूजिक फेस्टिवल में शिरकत करने आए सैकड़ों लोगों को हमास ने मौत के घाट उतार दिया था.