share--v1

'ऐसे मारे थे तुम्हारे लोग...', हमास आतंकियों ने इजराइल के बंधक बच्चों को दिखाए 7 अक्टूबर के Video

हमास ने 12 साल के ईटन और उसके पिता ओहद याहलोमी का नीर ओज किबुत्ज से अपहरण किया गया. ओहद अभी भी हमास की कैद में है. 

auth-image
Om Pratap
फॉलो करें:

हाइलाइट्स

  • कत्लेआम का वीडियो देखकर जब बच्चे रोने लगे तो उन्हें बंदूकें दिखाईं
  • इजराइल ने चेतावनी दी, कहा- ये वीडियो मनोवैज्ञानिक युद्ध का हिस्सा

Hamas Terrorists Showed Video of October 7 to Israels Hostage Children: गाजा में 52 दिनों तक हमास की कैद रह कर रिहा हुए इजराइली बंधक एक के बाद एक सनसनीखेज खुलासे कर रहे हैं. सोमवार को रिहा हुए एक 12 साल के इजराइली बच्चे के परिवार वालों का दावा है कि हमास के आतंकियों ने उसे 7 अक्टूबर के वीडियो दिखाए. धमकी देते हुए कहा गया कि देखो हमने कैसे तुम्हारे लोगों को मारा था. बच्ची की एक महिला रिश्तेदार का दावा है कि वे फ्रांसीसी-इजराइली मूल के नागरिक हैं. हमास ने ईटन (बच्चा) और उसके पिता ओहद याहलोमी का नीर ओज किबुत्ज से अपहरण किया गया. ओहद अभी भी हमास की कैद में है. 

रिहाई के बाद मां-बेटे की फोटो आई सामने 

न्यूज साइट एनडीटीवी की एक रिपोर्ट के अनुसार इजराइल और हमास के बीच समझौते के तहत रिहा होने के कुछ घंटों बाद सोमवार की रात छात्र को अपनी मां बत्शेवा को गले लगाते हुए फोटो सामने आया है. ईटन की आंटी ड्वोरा कोहेन ने आरोप लगाया कि कैद के दौरान ईटन समेत अन्य बंधक बच्चों को रोते समय बंदूक दिखा कर धमकाया जाता था.

कोहेन ने फ्रांस के बीएफएम टीवी को बताया कि हमास के आतंकवादियों ने बच्चों 7 अक्टूबर की डरावनी वीडियो देखने के लिए मजबूर किया. वीडियो को देखकर जब बच्चे रोने लगे तो उन्हें बंदूकें दिखाई गईं. उन्होंने आरोप लगाया कि गाजा पहुंचने पर फिलिस्तीनी नागरिकों ने 12 वर्षीय बच्चे पर हमला भी किया था. कोहेन ने कहा कि हमास के आतंकियों ने राक्षसों जैसा व्यवहार किया. 

इजराइल ने मनोवैज्ञानिक युद्ध का हिस्सा बताया

हालांकि हमास की ओर से इजराइली बंधकों की रिहाई के बाद ऐसे कई वीडियो शेयर किए हैं. ऐसे में इजराइल ने चेतावनी दी कि ये वीडियो मनोवैज्ञानिक युद्ध का हिस्सा हैं. इजराइल रक्षा बलों (आईडीएफ) ने भी प्रवक्ता डैनियल हगारी के माध्यम से ईटन की गवाही पर प्रतिक्रिया व्यक्त की है. सोशल मीडिया एक्स पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में हगारी ने कहा कि ईटन की गवाही से पता चलता है कि हमास एक क्रूर, आतंकवादी संगठन है, जिसने अंतरराष्ट्रीय रेड क्रॉस और रेड क्रिसेंट मूवमेंट को बंधकों की जांच करने की अनुमति नहीं दी.

युद्ध के दौरान या विराम.. सभी बंधक आएंगे

हगारी ने कहा कि मनुष्य के रूप में यह हमारा और दुनिया का नैतिक दायित्व है. हम इस बात पर जोर दें कि रेड क्रिसेंट अपनी जिम्मेदारी निभाए. हम सभी बंधकों को घर वापस लाने के लिए सब कुछ करेंगे... चाहे युद्धविराम के दौरान या निरंतर युद्ध के दौरान. बंधकों की रिहाई में हमास की ओर से 78 वर्षीय रूटी मुंडेर को भी आजाद किया गया है. 

Also Read

First Published : 29 November 2023, 04:57 PM IST