menu-icon
India Daily
share--v1

डेनमार्क की PM फ्रेडरिक्सन पर हमला, लड़खड़ाकर गिरीं, यूरोपीय नेताओं पर क्यों बढ़े हमले?

डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन हमला हुआ है. पीएम कार्यालय ने एक बयान में कहा कि प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन को शुक्रवार शाम को कोपेनहेगन के कुल्टोर्वेट (रेड स्क्वायर) में एक व्यक्ति ने पीटा.

auth-image
India Daily Live
Danish PM Mette Frederiksen
Courtesy: Social Media

डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन पर शुक्रवार को कोपेनहेगन के मध्य में एक व्यक्ति ने हमला किया. न्यूज एजेंसी रित्जौ की रिपोर्ट के मुताबिक आरोपी ने फ्रेडरिक्सन को जोर से धक्का मारा. इससे वे लड़खड़ा गईं. डेनमार्क के प्रधानमंत्री कार्यालय ने एएफपी को दिए एक बयान में कहा कि फ्रेडरिक्सन "इस घटना से स्तब्ध हैं", लेकिन उन्होंने आगे कोई विवरण नहीं दिया.

पीएम कार्यालय ने एक बयान में कहा कि प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन को शुक्रवार शाम को कोपेनहेगन के कुल्टोर्वेट (रेड स्क्वायर) में एक व्यक्ति ने पीटा, जिसे बाद में गिरफ्तार कर लिया गया. प्रधानमंत्री इस घटना से स्तब्ध हैं. उनके कार्यालय ने एक बयान में कहा, लेकिन इस पर कोई विस्तृत जानकारी नहीं दी. पुलिस ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर कहा कि उन्होंने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है और घटना की जांच कर रहे हैं, लेकिन आगे कोई विवरण देने से इनकार कर दिया.

यूनियन के चुनाव 9 जून को होने हैं

यह हमला यूरोपियन यूनियन चुनाव से ठीक पहले हुआ है. यूनियन के चुनाव 9 जून को होने हैं. डेनिश PM फ्रेडरिक्सन सोशल डेमोक्रेट्स यूरोपीय संघ के प्रमुख उम्मीदवार क्रिस्टेल शाल्डेमोस के साथ प्रचार कर रही हैं. घटना से कुछ देर पहले दोनों प्रचार करने गए थे. 15 मई को, स्लोवाक प्रधानमंत्री रॉबर्ट फ़िको को हैंडलोवा के केंद्रीय शहर में एक सरकारी बैठक के बाद समर्थकों का अभिवादन करते समय करीब से चार बार गोली मारी गई. वह हत्या के प्रयास में बच गए फ़िको को गोलीबारी के बाद पास के शहर के एक अस्पताल में ले जाया गया. 

यूरोपीय राजनेताओं पर हिंसक हमले बढ़े

यूरोपीय नेताओं पर हमले बढ़े हैं. हाल के दिनों में इस तरह की कई घटनाएं देखने को मिला है. 4 जून मैनहेम में एक संदिग्ध व्यक्ति ने बॉक्स कटर से वार करके फार राइट अल्टरनेटिव फॉर जर्मनी पार्टी के एक राजनेता की हत्या कर दी. जर्मनी के सेंटर लेफ्ट सोशल डेमोक्रेट्स के यूरोपीय पार्लियामेंट कैंडिडेट मैथियास एके पर भी हमला हुआ था. इसके बाद 15 मई को स्लोवाकिया के प्रधानमंत्री रॉबर्ट फिको पर भी जानलेवा हमला किया गया था.