share--v1

खुद के ही जाल में फंसा चीन, जिनपिंग के ड्रीम प्रोजेक्ट BRI को लगा बड़ा झटका

China BRI Project: चीन सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट बेल्ट रोड इनीशिएटिव यानी बीआरआई पर काले बादल मंडरा रहे हैं. इस प्रोजेक्ट पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं.

auth-image
India Daily Live

China BRI Project: दुनियाभर के गरीब देशों को पहले कर्ज बांटकर उन्हें अपने जाल में फंसाया, फिर उनसे मनमाने सौदे कर अपने हित साधे. ऐसा करने वाले चीन को अब बड़ा झटका लगा है.  चीनी राष्ट्रपति के ड्रीम प्रोजेक्ट BRI यानी बेल्ट रोड इनीशिएटिव पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं. इस कारण इस प्रोजेक्ट की भ्रष्टाचार रोधी निकाय द्वारा समीक्षा की जाएगी.  चीन ने इस प्रोजेक्ट की मदद से दुनियाभर के तमाम देशों में अरबों डॉलर का निवेश किया था. कई देश उसका कर्ज लौटाते-लौटाते दीवालिया तक हो गए. कोलंबो इसका सबसे बड़ा उदाहरण है. अब पाकिस्तान भी उसी रास्ते पर है. 

हॉंगकॉंग के अखबार साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की खबर के अनुसार, इस प्रोजेक्ट की समीक्षा करना सत्तारूढ़ कम्यूनिस्ट पार्टी की प्रमुख प्राथमिकताओ में से होगा. चीन सरकार के समाचार पत्र में बीआरआई प्रोजेक्ट पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को खत्म करना, निरीक्षण करना और उसके विकास को बढ़ावा देने को लेकर जोर दिया गया है. 

चीन के अनुशासन निरीक्षण आयोग ( CCDI) द्वारा जारी 2024 की रिपोर्ट कहा गया है कि संगठन इस साल विदेशी और घरेलू स्तर पर कार्रवाई करेगा. इसके अलावा वह चीन की महत्वाकांक्षी परियोजना में सुचिता लाने का भी प्रयास करेगा. 

जिनपिंग का ड्रीम प्रोजेक्ट 

BRI प्रोजेक्ट चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का ड्रीम प्रोजेक्ट है. चीन के वैश्विक प्रभाव को दुनियाभर में प्रसारित करने के लिए इसे साल 2013 में लॉन्च किया गया था. इससे चीन के प्रभाव में काफी बढ़ोत्तरी भी हुई. हालांकि इस प्रोजेक्ट की आड़ में तमाम देश कराह रहे हैं. अफ्रीका से लेकर श्रीलंका तक कई देशों को अपनी अचल संपत्ति का भाग बीजिंग को देने के लिए मजबूर होना पड़ा है. 

Also Read