menu-icon
India Daily
share--v1

Himachal Weather Update: हिमाचल प्रदेश में कुदरत का कहर, शिमला में शिक्षण संस्थान बंद...अलर्ट जारी

हिमाचल प्रदेश में बारिश इस साल आफत का दूसरा नाम बन चुकी है. कुल्लू, शिमला, मंडी और सोलन में रह- रहकर भारी बारिश हो रही है. अगले दो दिन के लिए फिर रेड अलर्ट जारी किया गया है.

auth-image
Abhiranjan Kumar
Himachal Weather Update: हिमाचल प्रदेश में कुदरत का कहर, शिमला में शिक्षण संस्थान बंद...अलर्ट जारी

Himachal Pradesh Weather Update: हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में बारिश का कहर जारी है. आसमान से आफत बरस रही है. राज्य में हालात भयावह बने हुए हैं. प्रदेश में बाढ़, भूस्खलन और बादल फटने के कारण भारी नुकसान हुआ है. कुल्लू जिले में गुरुवार को बारिश की वजह से 8 इमारतें धराशायी हो गईं. अन्नी इलाके इमारत गिरने की घटना में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. ये वो इमारतें थीं जिनमें गहरी दरारें आने के बाद उन्हें खाली करा लिया गया था. वहीं शिमला में शिव मंदिर में भूस्खलन वाली जगह से एक और शव बरामद किया गया है.

अलर्ट जारी

यहां ये कहना गलत नहीं होगा कि बारिश इस साल आफत का दूसरा नाम बन चुकी है. कुल्लू, शिमला, मंडी और सोलन में रह- रहकर भारी बारिश हो रही है. अगले दो दिन के लिए फिर रेड अलर्ट जारी किया गया है. गुरुवार को कुल्लू जिले में मात्र 30 सेकेंड में सात से ज्यादै इमारतें धराशायी हो गईं. पिछले चौबीस घंटों में हिमाचल में 12 लोगों की मौत हो चुकी हैं.

himachel pradesh rain1
 

शिक्षण संस्थान बंद

बारिश के प्रकोप को देखते हुए शिमला में 25 अगस्त को भी सभी शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे. इससे पहले 23-24 अगस्त को भी भारी बारिश के रेड और ऑरेंज अलर्ट के बीच सभी शिक्षण संस्थानों को बंद करने का फैसला लिया गया था. बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सभी संस्थान बंद करने का फैसला लिया गया है.

करोड़ों का हुआ नुकसान

हिमाचल प्रदेश में 24 जून से लेकर अब तक 8450 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है. प्रदेश में अभी तक 367 लोगों की विभिन्न कारणों से मौत हो चुकी है. जिसमें से 136 लोगों की मौत भूसखलन, बाढ़ और बादल फटने के कारण हुई है. मानसून के दौरान 2346 मकान पूरी तरह से ध्वस्त हो चुके हैं. 24 जून से लेकर अब तक प्रदेश भर में 156 लैंडस्लाइड और 63 फ्लैश फ्लड की घटनाएं दर्ज की गई हैं. प्रदेश में हुई बारिश की वजह से अलग-अलग घटनाओं में 343 लोग घायल भी हुए हैं.

यह भी पढ़ें: Pakistan में बच्चों के लिए भयावह हैं हालात, यौन शोषण को लेकर सामने आई चौंकाने वाली रिपोर्ट