share--v1

भाजपा विधायक ने शिवसेना MLA पर क्यों की फायरिंग? CM शिंदे पर भी लगाए बड़े आरोप, जानिए

महाराष्ट्र के भाजपा विधायक गणपत गायकवाड़ की ओर से शिवसेना विधायक महेश गायकवाड़ पर फायरिंग के मामले में सनसनीखेज खुलासा हुआ है. भाजपा विधायक ने शिवसेना विधायक समेत सीएम शिंदे को लेकर बड़ी बात कही है.

auth-image
Naresh Chaudhary
फॉलो करें:

Maharashtra Crime News: पूरे महाराष्ट्र में शुक्रवार देर रात उस वक्त सनसनी फैल गई, जब भाजपा के एक विधायक ने शिवसेना के एक विधायक पर थाने के अंदर फायरिंग कर दी. भाजपा विधायक गणपत गायकवाड़ ने एक-दो नहीं बल्कि छह गोलियां शिवसेना के विधायक महेश गायकवाड़ को मारीं. फिलहाल उनकी हालत गंभीर है. अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है. पुलिस ने मौके से ही भाजपा विधायक गणपतो को गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तारी से पहले भाजपा ने जो बयान मीडिया को दिया है वो घटना से भी ज्यादा सनसनीखेज है. उन्होंने शिवसेना विधायक को गोली मारने का कारण खुलकर सामने रखा है. साथ ही महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि उन्होंने 'मुझे अपराधी बना दिया है'.

शिवसेना नेता महेश गायकवाड़ को गोली मारने वाले महाराष्ट्र के भाजपा विधायक गणपत गायकवाड़ ने इस घटना का पूरा दोष मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे पर लगाया है. शुक्रवार देर रात अपनी गिरफ्तारी से पहले एक न्यूज चैनल से फोन पर बात करते हुए विधायक गणपत गायकवाड़ ने कहा कि एकनाथ शिंदे ने 'मुझे अपराधी बना दिया' है. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे ऑडियो क्लिप में कल्याण पूर्व से भाजपा विधायक गणपत गायकवाड़ ने कहा कि मेरे बेटे के साथ पुलिस स्टेशन में दुर्व्यवहार किया गया. मेरी जमीन मुझसे जबरन छीन ली गई. अगर एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने रहेंगे, तो अपराधियों में वृद्धि होगी. आरोप लगाया कि उन्होंने आज मेरे जैसे अच्छे व्यक्ति को अपराधी बना दिया है.

महेश गायकवाड़ के शरीर से निकाली 6 गोलियां

भाजपा विधायक ने आरोप लगाया कि उनके बेटे की पुलिस स्टेशन में पिटाई की जा रही थी. उन्होंने इसी बात का बदला लेने के लिए महेश गायकवाड़ को गोली मारी थी. गणपत गायकवाड़ ने कहा कि इसीलिए मुझे कोई अफसोस नहीं है. उन्होंने सवाल किया कि अगर कोई मेरे बेटे को पुलिस स्टेशन में पीटता है, तो आप क्या चाहते हैं कि मैं करूं? मेरा इरादा उन्हें मारने का नहीं था. न्यूज एजेंसी पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने यह भी दावा किया कि उन्होंने महेश गायकवाड़ पर पांच राउंड गोलियां चलाईं. हालांकि, पुलिस ने प्रारंभिक जांच के बाद कहा है कि करीब दस राउंड फायरिंग हुई थी, जिसमें महेश गायकवाड़ को 6 गोलियां लगी थी. 

भूमि विवाद कैसे गोलीबारी की ओर ले गया?

गणपत गायकवाड़ की ओर से कहा गया है कि जमीन के एक टुकड़े को लेकर कानूनी प्रक्रिया चल रही थी. उन्होंने कोर्ट में मामला जीत लिया है. उन्होंने आरोप लगाया कि महेश गायकवाड़ ने बलपूर्वक इस पर कब्जा कर लिया. विधायक ने कहा कि उनका बेटा जमीन के संबंध में शिकायत दर्ज कराने उल्हासनगर के पुलिस स्टेशन गया था. ठाणे के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त दत्ता शिंदे ने कहा है कि गणपत गायकवाड़, उनके बेटे और महेश गायकवाड़ समेत कुछ लोग पुलिस स्टेशन पहुंचे थे. घटना के सीसीटीवी फुटेज को देखते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा विधायक द्वारा आत्मरक्षा में गोली चलाने का कोई सवाल ही नहीं है. 

एसीपी दत्ता शिंदे ने कहा था कि मौके पर कोई बहस या उकसावे की बात भी नहीं थी, जांच में सामने आया है कि गणपत गायकवाड़ ने महेश गायकवाड़ को निशाना बनाकर गोली मारी थी. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि ठाणे के ज्यूपिटर अस्पताल में महेश गायकवाड़ पर दस राउंड फायरिंग की गई, जबकि छह गोलियां उनके शरीर से निकाली गई हैं. पुलिस ने गणपत गायकवाड़, हर्षल केने और संदीप सरवनकर को गिरफ्तार कर लिया है. बाकी आरोपियों की तलाश में चार टीमें लगाई गई हैं. पुलिस अधिकारी ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ हत्या का प्रयास समेत अन्य गंभीर धाराओं में केस दर्ज किया गया है. ठाणे की एक कोर्ट ने शनिवार को उन्हें 14 फरवरी तक पुलिस हिरासत में भेज दिया.

विधायक का दावा, 'एकनाथ शिंदे भाजपा को धोखा देंगे'

गणपत गायकवाड़ ने एकनाथ शिंदे के बेटे और कल्याण सांसद श्रीकांत शिंदे पर बोर्ड लगाकर उनके कार्यों का श्रेय हड़पने का भी आरोप लगाया है. कहा कि उन्होंने मेरे खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है. उन्होंने यह भी दावा किया है कि एकनाथ शिंदे भाजपा के साथ उसी तरह विश्वासघात करेंगे जैसे उन्होंने शिवसेना (यूबीटी) प्रमुख उद्धव ठाकरे के साथ किया था. साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री शिंदे के इस्तीफे की मांग की थी. गणपत ने कहा कि शिंदे पर मेरे करोड़ों रुपये बकाया हैं. अगर महाराष्ट्र को सुव्यवस्थित करना है तो शिंदे को इस्तीफा दे देना चाहिए. न्यूज एजेंसी पीटीआई ने गणपत गायकवाड़ के हवाले से कहा गै कि यह मेरा देवेन्द्र फड़णवीस (डिप्टी सीएम) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से विनम्र अनुरोध है.

Also Read

First Published : 04 February 2024, 08:19 AM IST