menu-icon
India Daily
share--v1

बीफ खाने वालों से दिक्कत तो चुनाव में चंदा लेने से क्यों नहीं? ओवैसी ने बीजेपी से पूछे तीखे सवाल

Asaduddin Owaisi On Electoral Bond: असदुद्दीन ओवैसी ने बीजेपी पर एक बार फिर करारा  लार किया है. ओवैसी ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि बीफ खाने वालों से दिक्कत है तो चुनाव में उन लोगों से इलेक्टोरल बॉन्ड के जरिए चंदा लेने से क्यों नहीं है.

auth-image
India Daily Live
asaduddin owaisi

Asaduddin Owaisi On BJP: लोकसभा चुनाव से पहले इन दिनों बीफ और इलेक्टोरल बॉन्ड को लेकर सियासत जोरों पर है. इसी कड़ी में एआईएमआईएम चीफ, हैदराबाद सांसद और मुसलमानों के हितैषी असदुद्दीन ओवैसी की  भी एंट्री हो गई है. ओवैसी ने बीजेपी पर तीखा हमला बोलते हुए सवाल किया है कि जब वह बीफ के व्यापार का विरोध कर रहे हैं तो उन्होंने कथित तौर पर बीफ निर्यातकों से इलेक्टोरल बॉन्ड के जरिए एक बड़ी रकम क्यों ली.

महाराष्ट्र के वैजापुर में अपने संबोधन के दौरान उन्होंने कहा कि गोमांस व्यापार के मामले में बीजेपी के दो मानक हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी ने चुनावी बॉन्ड में हजारों करोड़ रुपये लिए, लेकिन हमने कुछ नहीं लिया क्योंकि हम खुद जेम्स बॉन्ड हैं और एआईएमआईएम का आम लोगों के दिलों से सीधा बॉन्ड है. ओवैसी ने कहा कि बीजेपी देश में कुछ खास मौकों पर मीट की दुकानें बंद रखना चाहती है. मैं बीजेपी से पूछना चाहता हूं कि अगर उन्हें बीफ से इतनी ही दिक्कत है तो उन्होंने बीफ निर्यातकों से चुनावी बांड के तौर पर करोड़ों रुपये क्यों लिए?

गोमांस निर्यातकों से करोड़ों का चंदा लिया गया- ओवैसी

असदुद्दीन ओवैसी ने बीजेपी को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि एक तरफ वो लोग गोमांस के व्यापार का विरोध करती है लेकिन दूसरी ओर उसने गोमांस निर्यातकों से करोड़ों रुपये के चुनावी बांड लिए और गोमांस व्यवसाय के लिए 29,610 करोड़ रुपये का अनुदान भी स्वीकृत किया है. उन्होंने सवाल करते हुए आगे कहा कि यह कैसी राजनीति है?

बीजेपी ने गोमांस निर्यातकों से 550 करोड़ का चंदा लिया- राउत

ओवैसी से पहले शिवसेना उद्धव गुट के सांसद संजय राउत ने भी बीजेपी पर हमला बोलते हुए गोमांस निर्यातकों से इलेक्टोरल बॉन्ड के रूप में 550 करोड़ रुपये का चंदा लेने का आरोप लगाया था. उन्होंने कहा था कि एसबीआई की ओर से इलेक्टोरल बॉन्ड की जानकारी सार्वजनिक की गई तो पता चला कि बीजेपी और मोदी ने गोमांस निर्यातकों से 550 करोड़ रुपये का चंदा लिया है.