menu-icon
India Daily
share--v1

फिर सवालों के घेरे में तिहाड़ जेल, पिछले आठ सालों में 20 कैदियों की हत्या 54 ने किया सुसाइड

Tihar Jail News: तिहाड़ में चप्पे-चप्पे पर सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं, सुरक्षा के सभी इंतजाम हैं, बावजूद इसके तिहाड़ में हत्या और आत्महत्या के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं.

auth-image
Sagar Bhardwaj
फिर सवालों के घेरे में तिहाड़ जेल, पिछले आठ सालों में 20 कैदियों की हत्या 54 ने किया सुसाइड

नई दिल्ली: देश की सबसे बड़ी जेल, तिहाड़ जेल एक बार फिर चर्चा में है. तिहाड़ में चप्पे-चप्पे पर सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं, सुरक्षा के सभी इंतजाम हैं, बावजूद इसके तिहाड़ में हत्या और आत्महत्या के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं.

पिछले आठ सालों में 20 कैदियों की हत्या, 54 ने किया सुसाइड

साल 2015 से मई 2023 के बीच तिहाड़ में 20 कैदियों की हत्या हुई है, जबकि 54 कैदियों ने आत्महत्या की. तिहाड़ जेल प्रशासन ने पूरी जेल को सीसीटीवी कैमरों से लैस करने में 5 करोड़ रुपए फूंक दिए इसके बावजूद वह जेल में हत्या और आत्महत्याओं पर लगाम लगाने में नाकाम साबित हो रहा है.

तीनों जेलों में कैमरों पर पौने पांच करोड़ खर्च

बता दें कि दिल्ली की तीनों जेलों रोहिणी, तिहाड़ और मंडोली में लगे सीसीटीवी कैमरों की निगरानी लोक निर्माण विभाग के जिम्मे है. लोक निर्माण विभाग तीनों जेलों में कैमरों के ऊपर बीते तीन सालों में  4 करोड़ 79 लाख 89 हजार 500 रुपए खर्च कर चुका है.

जेल में नाइट विजन और ऑडियो रिकॉर्डिंग के कितने कैमरे लगे हुए हैं, सुरक्षा के मद्देनजर जेल प्रशासन ने यह जानकारी नहीं दी है, लेकिन इतने रुपए फूंकने के बाद भी कोई फायदा मिलता दिखाई नहीं दे रहा है.

यह भी पढ़ें: पोस्टर में साथ-साथ दिखे अजित और शरद पवार, वायरल हो रहे पोस्ट की सच्चाई आयी सामने