menu-icon
India Daily
share--v1

'4 जून को शेयर बाजार में हुआ इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला', राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी पर लगाए गंभीर आरोप

राहुल गांधी ने कहा कि 4 जून को शेयर बाजार में बहुत बड़ा घोटाला हुआ. लोगों ने प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह की भविष्यवाणी के बाद शेयरों में पैसा लगाया और उनके 30 लाख करोड़ डूब गए.

auth-image
India Daily Live
rahul gandhi
Courtesy: PTI

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की और शेयर बाजार को लेकर प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह द्वारा की गई भविष्यवाणी को लेकर उन पर गंभीर आरोप लगाए. राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह की भविष्यवाणी की वजह ले 4 जून को निवेशकों के 30 लाख करोड़ डूब गए. उन्होंने कहा कि 4 जून को शेयर बाजार में बहुत बड़ा घोटाला हुआ है और इसकी संयुक्त संसदीय समिति (Joint Parliamentary Committee ) से जांच होनी चाहिए. 

पीएम को पता था कि नतीजे उनके मुताबिक नहीं आएंगे

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी, गृह मंत्री अमित शाह को पता था कि 4 जून को नतीजे उनके मुताबिक नहीं आएंगे, इसके बावजूद उन्होंने लोगों को शेयर बाजार में पैसा लगाने को कहा और निवेशकों को करोड़ों का चूना लगा दिया.

 

राहुल गांधी ने कहा कि भाजपा के पास एजेंसियों की इंटरनल रिपोर्ट थी. उनके पास अपना आकलन था कि 4 जून को शेयर बाजार आसान नहीं छूएगा बल्कि गिरेगा, इसके बाद भी उन्होंने लोगों से शेयर बाजार में पैसा लगाने को कहा. राहुल ने कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी लोगों से कहा कि 4 जून को लोकसभा चुनाव के नतीजे वाले दिन स्टॉक मार्केट बूम करेगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

राहुल गांधी ने मोदी सरकार से पूछे तीन सवाल
इस शेयर बाजार के इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला बताते हुए राहुल गांधी ने मोदी सरकार से कुछ सवाल पूछे. राहुल ने कहा मेरा पहला सवाल ये है पीएम मोदी और गृह मंत्री ने देश के 5 करोड़ परिवारों को शेयर बाजार में पैसा लगाने की सलाह क्यों दी? क्या निवेश की सलाह देना उनका काम है? दूसरा, दोनों ने उसी मीडिया हाउस को इंटरव्यू क्यों दिया जो एक ही बिजनेस समूह द्वारा चलाया जाता है और जो शेयर बाजार में हेरफेर के लिए सेबी की रडार पर है? तीसरा, भाजपा और फर्जी एग्जिट पोल करने और फर्जी विदेशी निवेशकों के बीच क्या संबंध है?

हम इस मामले की जेपीसी जांच चाहते हैं
राहुल गांधी ने कहा, 'पहली बार हमने यह नोट किया कि चुनाव के समय प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, वित्त मंत्री ने शेयर बाज़ार पर टिप्पणी दी. प्रधानमंत्री ने दो-चार बार कहा कि शेयर बाज़ार तेज़ी से बढ़ने जा रही है... उनके मैसेज को वित्त मंत्री और गृह मंत्री ने भी आगे बढ़ाया. अमित शाह कहते हैं 4 चार जून से पहले शेयर खरीदें। प्रधानमंत्री ने भी यही कहा और 28 मई को फिर से दोहराया... 3 जून को शेयर बाज़ार सारे रिकॉर्ड तोड़ देता है और 4 जून को शेयर बाज़ार नीचे चला जाता है.' 

क्या आप इसकी शिकायत करेंगे

यह पूछे जाने पर कि क्या आप इसको लेकर कोई शिकायत करने जा रहे हैं? इस पर राहुल गांधी ने कहा कि हम इस पर कार्रवाई करने का विचार बना रहे हैं. उन्होंने कहा कि यह कोई मामूली बात नहीं है. रिटेल निवेशकों के लाखों-करोड़ों डूबे हैं. इसलिए इस मामले की जांच होनी चाहिए.