share--v1

छिंदवाड़ा में ये क्या हो रहा है? कंधे पर लकड़ी उठाने वाले कमलनाथ के करीबी की कहानी

Lok Sabha Elections 2024: छिंदवाड़ा के मेयर विक्रम अहाके ने पाला बदल लिया है. ये कमलनाथ के लिए बड़ा झटका है. उनके बेटे नकुल नाथ छिंदवाड़ा से लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं.

auth-image
India Daily Live

Lok Sabha Elections 2024:  लोकसभा चुनाव से पहले मध्यप्रदेश में कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. छिंदवाड़ा के मेयर विक्रम अहाके ने सोमवार को बीजेपी का दामन थाम लिया है. एक समय अहाके राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबी रहे हैं. मुख्यमंत्री मोहन यादव, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने विक्रम अहाके को बीजेपी की सदस्यता दिलाई. 

मेयर विक्रम अहाके के साथ छिंदवाड़ा के कई छोटे-बड़े नेता बीजेपी में शामिल हुए. छिंदवाड़ा सीट से कमलनाथ के बेटे नकुल नाथ कांग्रेस की टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं. ये सीट कमलनाथ का गढ़ है. यहां से वो 9 बार सांसद रह चुके हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव में कमलनाथ ने यह सीट अपने बेटे नकुल नाथ को सौंप दी. उन्होंने छिंदवाड़ा से जीत हासिल की थी. इसलिए बीजेपी की इस सीट पर इस बार नजर है. 

कौन हैं विक्रम अहाके?

विक्रम अहाके एक साधरण परिवार से आते हैं. जब वो मेयर का चुनाव जीते थे तब उनकी एक तस्वीर वायरल हुए थी. तस्वीर में वो खाली पैर साधारण कपड़े पहने लकड़ी का बोझ उठाए दिख रहे थे. सामान्य परिवार से आने वाले अहाके के पिता किसान हैं और मां आंगनवाड़ी कार्यकर्ता है. उन्होंने अपने मेहनत से इलाके में अपनी पहचान बनाई है.

कांग्रेस का 18 साल का सूखा खत्म किया

बीए की पढ़ाई करने के बाद 2015 में उन्होंने सरपंच का चुनाव लड़ा, लेकिन उन्हें हार मिली. विक्रम अहाके ने कांग्रेस को महापौर पद पर 18 साल बाद जीत दिलाई थी. उन्होंने बीजेपी के अनंत धुर्वे को 3,786 वोटों से हराया था. 

कांग्रेस में अहाके ने एनएसयूआई के कार्यवाहक जिला अध्यक्ष, सासंद प्रतिनिधि से लेकर जिला कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता तक कई पदों पर रहकर काम किया हैं. चुनावी हलफनामे में उन्होंने अपनी कुल चल संपत्ति 338500 और अचल संपत्ति 560000 रुपए की घोषित की है. 
 

Also Read