menu-icon
India Daily
share--v1

एलन मस्क और भारत की दोस्ती चीन को नहीं आई रास, आखिर क्यों बौखलाया ड्रैगन?

Elon Musk Tesla India Factory: एलन मस्क अपनी टेस्ला की फैक्ट्री को भारत में खोलने का प्लान कर रही है. इस घोषणा भी जल्द की जा सकती है लेकिन चीन को यह प्लान पसंद नहीं आ रहा है. 

auth-image
India Daily Live
Elon Musk Tesla India Factory

Elon Musk Tesla India Factory: टेस्ला के सीईओ एलन मस्क भारत में इलेक्ट्रिक कार फैक्ट्री खोलने का प्लान कर रहे हैं. लेकिन ये बात चीन को पंसद नहीं आई है. माना जा रहा है कि मस्क जब भारत आएंगे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलेंगे तो वो टेस्ला की फैक्ट्री की घोषणा कर सकते हैं. पिछले काफी समय से एलन मस्क भारत सरकार से बातचीत कर रहे हैं. वे भारत में कम शुल्क पर कार इम्पोर्ट करते थे लेकिन भारत चाहता था कि वो भारत ही कार मैन्यूफैक्चर करे. ऐसे में मस्क भारत में टेस्ला कार फैक्ट्री की घोषणा कर सकते हैं. 

चीन को नहीं पसंद आ रहा प्लान: चीन को टेस्ला की भारत में एंट्री रास नहीं आ रही है. ग्लोबल टाइम्स के अनुसार, चीन ने टेस्ला के भारत में फैक्ट्री खोलने के कदम पर सवाल उठाया है. यह कदम फेल हो जाएगा क्योंकि भारत अभी इसके लिए पूरी तरह से तैयार नहीं है. माना जा रहा है कि चीन का यह बयान इसलिए आया है क्योंकि इससे पहले कई चीनी निर्माताओं ने भारत में ईवी बनाने के लिए इंटरेस्ट जाहिर किया था लेकिन भारत सरकार ने उन्हें अनुमति नहीं दी. 

ये तो हम सभी जानते हैं कि सीमा विवाद के चलते भारत-चीन के संबंध खराब हो गए हैं, जिस पर पहले भी झड़पें हो चुकी हैं. यह कहना गलत नहीं होगा कि चीन को भारत में ईवी मैन्यूफैक्चरिंग से मना किया गया है तभी से चीन भौखलाया हुआ है. 

बता दें कि टेस्ला चीन में एक फैक्ट्री चलाती है जिसे कई परेशानियों के गुजरना पड़ रहा है. पिछले महीने, टेस्ला के शेयरों में गिरावट आई थी. डाटा से पता चला कि टेस्ला की शंघाई गीगाफैक्ट्री से डिलीवरी में गिरावट आई. ब्लूमबर्ग ने बताया कि टेस्ला ने चीन में अपने प्लांट में कार के प्रोडक्शन को कम कर दिया था क्योंकि अमेरिकी ईवी मैन्यूफैक्चरर मार्केट में लो डिमांड और तगड़े कॉम्पेटीशन से जूझ रहा था. 

कंपनी ने अपने शंघाई कारखाने के कर्मचारियों से कहा था कि वे मॉडल वाई स्पोर्ट यूटिलिटी व्हीकल और मॉडल 3 सेडान दोनों का प्रोडक्शन कम करें. बता दें कि टेस्ला ने पहली तिमाही में दुनिया भर में 387,000 कारों की डिलीवरी की, जो पिछले साल के इस महीने में 423,000 से 8.5% कम है.