menu-icon
India Daily
share--v1

यूक्रेन पर कमजोर रणनीति या रूस में बढ़ती बगावत, क्यों रक्षा मंत्री बदलने पर मजबूर हुए व्लादिमीर पुतिन?

Russia Ukraine War: रूस और यूक्रेन के बीच जंग के 809 दिन बीत चुके हैं. यूक्रेन तबाह हो गया है, लाखों लोग पलायन कर चुके हैं. व्लादिमीर पुतिन, अब भी यूक्रेन का पीछा छोड़ने के मूड में नहीं हैं.

auth-image
India Daily Live
Vladimir Putin
Courtesy: Social Media

यूक्रेन और रूस के बीच जारी जंग, अब 809वें दिन में पहुंच गई है. न जंग खत्म हुई है न ही यूक्रेन की हिम्मत टूटी है. वोलोदिमीर जेलेंस्की अब भी अपने सैनिकों के साथ हैं. यूरोपियन यूनियन, दबे पांव यूक्रेन के साथ है और रूस की मुश्किलें बढ़ रही हैं. यूक्रेन तबाह तो हो गया है लेकिन महाबली रूस में भी बगावत की जंग छिड़ी है. राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन अपनी सेना के दम पर भले ही अजेय राष्ट्रपति बने हुए हैं लेकिन उनके खिलाफ भी अब आवाज उठती है.

व्लादिमीर पुतिन ने अचानक अपने रक्षामंत्री सर्गेई शोइगु का तबादला कर दिया है. सर्गेई शोइगू की उम्र 68 साल है और वे साल 2012 से ही रूस के रक्षा मंत्री हैं. 12 साल बाद, अब उनसे उनका पद छीना जा रहा है. अब वे रक्षा मंत्री नहीं रहेंगे. उनका पद तो बढ़ाया गया है लेकिन ताकतें कम कर दी गई हैं. उन्हें रूस की सुरक्षा परिषद का चीफ बनाया गया है. 

कौन रूस में लेगा सर्गेई शोइगू की जगह?
सर्गेई शोइगू की जगह अब वाइस प्रेसिडेंट आंद्रेई बेलौसेव रक्षामंत्री होंगे. सर्गेई शोइगु ने यूक्रेन को तबाह करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी लेकिन अभी वे विराम ले रहे हैं. व्लादिमीर पुतिन, अब सुरक्षा परिषद में रहेंगे. उन्हें प्रमुख पद दिया गया है. वे व्लादिमीर पुतिन के बेहद करीबी हैं.  वे बिना किसी सैन्य बैकग्राउंड के रक्षामंत्री बने थे.

दशकों से पुतिन के करीबी हैं सर्गेई शोइगू
सर्गेई शोइगू ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है. साल 1990 में शोइगु इमरजेंसी और डिजास्टर मिनिस्ट्री के प्रमुख बने थे. व्लादिमीर पुतिन के उनका रिश्ता पुराना है. व्लादिमीर पुतिन के खिलाफ विरोध की आवाजें तो उठती हैं लेकिन सत्ता उन्हें ही मिलती है. वे अपने विरोधियों को बख्शते नहीं. आम चुनावों में करीब 87 फीसदी वोट उन्हें हासिल हुए थे. वे 5वीं बार राष्ट्रपति बने हैं.