share--v1

बंगाल में नहीं लड़ेंगे लोकसभा चुनाव, छोड़ देंगे राजनीति; TMC नेता अभिषेक बनर्जी ने BJP को दे दिया बड़ा चैलेंज

Lok Sabha Election: ममता बनर्जी के भतीजे और टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी ने बीजेपी को एक बड़ी चुनौती दी है. उन्होंने कहा है कि अगर बीजेपी उनकी चुनौती को पूरा करती है तो वह बंगाल की सभी सीटों से अपने उम्मीदवार को वापस ले लेंगे.

auth-image
India Daily Live

Lok Sabha Election: लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार और बीजेपी को बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे और टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी ने एक बड़ा चैलेंज किया है. अभिषेक बनर्जी ने कहा है कि अगर बीजेपी जनता को फ्री एलपीजी सिलेंडर देने का ऐलान करती है तो तो टीएमसी बंगाल की सभी 42 लोकसभा सीटों से अपने उम्मीदवारों को वापस ले लेगी.

अभिषेक बनर्जी ने कहा कि अगर बीजेपी शासित राज्यों में बंगाल सरकार के लक्ष्मीर भंडार योजना के तर्ज पर महिलाओं को हर महीने 1,500 रुपए देने का ऐलान किया जाता है तो वह राजनीति से संन्यास ले लेंगे. हालांकि, टीएमसी नेता के इस बयान को सीपीआई (एम) और कांग्रेस ने इसे राजनीतिक नौटंकी करार दिया.

BJP को अभिषेक बनर्जी की बड़ी चुनौती

टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी ने मथुरापुर में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि बीजेपी नेता कह रहे हैं कि अगर हम सत्ता में आए, तो हम लक्ष्मी भंडार भत्ता बढ़ाकर 3 हजार रुपए करेंगे. अब 17 राज्यों में बीजेपी और उसके सहयोगी दल सत्ता में हैं. मैं उनसे 3 हजार रुपए देने के लिए नहीं कह रहा हूं, मैं कैमरे के सामने कह रहा हूं कि अगर वे बीजेपी शासित राज्यों में कम से कम 1,500 रुपये का भुगतान करते हैं तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा.

अभिषेक बनर्जी ने आगे कहा कि बीजेपी बस एक अधिसूचना जारी करें, कि अगले पांच वर्षों में देश भर में रसोई गैस मुफ्त प्रदान की जाएगी. मैं सभी 42 सीटों से सभी उम्मीदवारों को हटा दूंगा.

BJP को उम्मीदवार नहीं मिल रहे- अभिषेक

अभिषेक बनर्जी को पार्टी ने डायमंड हार्बर लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाया है. उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव 2019 में टीएमसी ने मथुरापुर सीट में 2.5 लाख वोटों से जीत दर्ज की थी. मथुरापुर का विकास मेरी जिम्मेदारी है. अभिषेक ने दावा किया कि टीएमसी डायमंड हार्बर सीट को 4 लाख वोटों के अंतर से जीतेगी. उन्होंने बीजेपी पर चुटकी लेते हुए कहा कि बीजेपी को उम्मीदवार नहीं मिल रहे हैं. चार सीटें खाली हैं. ईडी निदेशक, सीबीआई निदेशक, आईटी निदेशक और एनआईए निदेशक को वहां चुनाव लड़ने दीजिए.

क्या है लक्ष्मीर भंडार योजना

टीएमसी सरकार ने साल 2011 आर्थिक रूप से कमजोर महिलाओं को आर्थिक मदद देने के मकसद से लक्ष्मीर भंडार योजना की शुरुआत की थी. इस साल से बजट में सरकार ने सामान्य वर्ग की महिलाओं को मिलने वाली सहायता राशि को 500 रुपए से बढ़ाकर 1000 रुपए महीना और और एससी/एसटी वर्ग की महिलाओं के को मिलने वाली सहायता राशि को 1,000 रुपए से बढ़ाकर 1,200 रुपए कर दी है.