menu-icon
India Daily
share--v1

MP Assembly Election 2023: क्या कसरावद विधानसभा सीट पर कांग्रेस लगाएगी जीत की हैट्रिक या BJP के सिर सजेगा ताज?

MP Assembly Election 2023: मध्य प्रदेश की कसरावद विधानसभा सीट पर बीजेपी ने अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर दिया है. बीजेपी ने इस सीट से पूर्व विधायक आत्माराम पटेल को उम्मीदवार बनाया गया है.

auth-image
Avinash Kumar Singh
MP Assembly Election 2023: क्या कसरावद विधानसभा सीट पर कांग्रेस लगाएगी जीत की हैट्रिक या BJP के सिर सजेगा ताज?

MP Assembly Election 2023: मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव की चुनावी शंखनाद की घड़ी नजदीक आ रही है. ऐसे में सियासी दिग्गज अपने सियासत के रकबे को संभालने और संजोए रखने को लेकर जनता की चौखट पर दस्तक देना शुरू कर चुके हैं. कांग्रेस और बीजेपी दोनों दल अपने उम्मीदवारों के चयन को लेकर अंतिम रूप देने में लगे हुए है. मध्य प्रदेश की कसरावद विधानसभा सीट पर बीजेपी ने अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर दिया है. बीजेपी ने इस सीट से पूर्व विधायक आत्माराम पटेल को उम्मीदवार बनाया गया है. मौजूदा समय में कांग्रेस के सचिन यादव इस विधानसभा क्षेत्र से विधायक है. 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के सचिन यादव ने बीजेपी के आत्माराम पटेल को बड़े अंतर से हराया था.

सचिन यादव के सामने जीत की हैट्रिक लगाने की बड़ी चुनौती

1993, 1998, 2003 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के सुभाष यादव विधायक चुने गए. उसके बाद 2008 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के आत्माराम पटेल ने यहां से जीत दर्ज की थी. उसके बाद हुए दो विधानसभा चुनाव 2013 और 2018 में सुभाष यादव के बेटे सचिन यादव कांग्रेस के टिकट पर विधायक चुने जाते रहे है. ऐसे में सचिन यादव के सामने जीत की हैट्रिक लगाना कड़ी और बड़ी चुनौती होगी.

कसरावद विधानसभा सीट पर किस फैक्टर का कितना जोर

अगर कसरावद विधानसभा सीट की जातिगत समीकरण की बात की जाए तो यादव समाज का यहां अच्छा खासा दबदबा है. इसके अलावा यहां पाटीदार, राजपूत और पटेल समाज सियासी तौर पर जीत-हार तय करने में बड़ी भूमिका अदा करते है. कांग्रेस खेमे की सीट होने से बीजेपी अपनी रणनीतियों के तहत इस सीट पर अपना कब्जा जमाने की कोशिश करेंगी.

सचिन यादव के सामने विरासत को बरकरार रखने की चुनौती

वहीं यादव समाज की बहुलता होने की वजह से सचिन यादव तीसरी बार जीत को लेकर जनता के बीच संपर्क करना शुरू कर दिया है. ऐसे में देखना यह दिलचस्प होगा कि कसरावद विधानसभा सीट पर जनता किसे अपना विधायक चुनती है. सचिन यादव कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव के भाई हैं. उनके पिता सुभाष यादव मप्र के उपमुख्यमंत्री रह चुके हैं. सचिन यादव कमलनाथ मंत्रिमंडल में पूर्व कृषि मंत्री रहे है. ऐसे में उनके सामने तीसरी बार जीत दर्ज करके अपने कद को बरकरार रखने की चुनौती है.

यह भी पढ़ें: राजस्थान की बायतु विधानसभा सीट जहां मौजूदा विधायक को नहीं मिलती जीत, जानें क्या रहे हैं दिलचस्प आंकड़े