menu-icon
India Daily
share--v1

दो महिलाओं से संबंध... बेवफाई नहीं बर्दाश्त कर पाई 2 बच्चों की मां, तवे से मार डाला लिव-इन-पार्टनर

Gurgaon Crime News: गुरुग्राम में एक शख्स की हत्या का चौंकाने वाला मामला सामने आया. पुलिस ने हत्या के आरोप में शख्स की लिव इन पार्टनर को गिरफ्तार किया है, जो दो बच्चों की मां है.

auth-image
India Daily Live
Gurgaon Crime News
Courtesy: Social Media

Gurgaon Crime News: वीरान घर... एक कोने में पड़ी एक शख्स की लाश... कमरे में ही एक तवा जिसपर खून के धब्बे पड़े थे. ये क्राइम सीन देखकर पुलिस को समझ नहीं आ रहा था कि लाश किसकी है, हत्या किसने की है, वारदात को क्यों अंजाम दिया गया है? इन सब सवालों की तलाश में जुटी गुरुग्राम पुलिस को उस वक्त सफलता मिली, जब एक महिला को गिरफ्तार किया गया. जानकारी सामने आई कि गिरफ्तार की गई महिला शख्स की लिव इन पार्टनर थी, जिसने तवे से पीट-पीटकर उसकी जान ले ली. फिलहाल, पुलिस मामले की पड़ताल में जुटी है.

मृतक की पहचान 28 साल के विक्की, जबकि आरोपी महिला की पहचान नीतू के रूप में की गई है. पुलिस ने दावा किया कि नीतू ने उन्हें पूछताछ के दौरान बताया कि वो और विक्की पिछले 5 साल से एक दूसरे को जानते थे और लिव इन में रहते थे. उसने बताया कि विक्की के दो अन्य महिलाओं से अवैध संबंध थे. इसकी जानकारी के बाद हम दोनों में झगड़ा होता था. पुलिस ने बताया कि 17 मई को जब विक्की और नीतू घर के आंगन में बैठकर शराब पी रहे थे. इसी दौरान अवैध संबंध का मामला उठा. फिर नीतू और विक्की के बीच झगड़ा हुआ. इसी दौरान नीतू ने तवे से पीट-पीटकर विक्की की जान ले ली.

18 मई को पुलिस को मिली थी हत्या की सूचना

गुरुग्राम पुलिस को 18 मई को हत्या की सूचना मिली थी. पुलिस जब ऊंची, सफेद, कंटीली तार वाली चारदीवारी के पीछे बने घर के अंदर पहुंची, तो उन्हें बेडरूम में एक युवक का शव मिला. उसके हाथ-पैर कीचड़ से सने हुए थे. सिर और गर्दन पर चोट के निशान थे, लेकिन शरीर पर संघर्ष के कोई निशान नहीं थे.

घर में एक किचन, बेडरूम और शौचालय था. डबल बेड वाली चारपाई के सामने एक फ्रिज और कूलर था. एक और चीज़ थी जिसने पुलिसवालों का ध्यान खींचा, वो ये कि बेडरूम के एक कोने में लोहे का तवा पड़ा था जिस पर खून के कई धब्बे थे. पुलिसकर्मियों को संदेह हुआ कि ये तवा वारदात में यूज किया गया हथियार हो सकता है.

पुलिस के मुताबिक, एक अज्ञात महिला ने पुलिस को फोन करके बताया कि टिकरी गांव के एक घर में एक व्यक्ति मृत पड़ा है. घटनास्थल पर पुलिस टीम को उस व्यक्ति की पहचान का पता लगाने के लिए कोई पहचान पत्र या फोन नहीं मिला. हालांकि, पुलिस ने जांच पड़ताल की तो घर की छत पर एक बड़ा बोर्ड देखा. बोर्ड पर लिखा था कि आवारा जानवरों से प्यार करें, पालतू जानवरों की देखभाल करें. कृपया बेजुबान जानवरों की मदद करें. बोर्ड पर एक मोबाइल नंबर भी लिखा था. 

शुरुआती लीड मिली, लेकिन सफलता कुछ देर बाद

एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने कहा कि बोर्ड पर लिखे गए नंबर पर कॉल किया गया, लेकिन वो काम नहीं कर रहा था. फिर हमने सिम कार्ड की डिटेल निकाली, जो पानीपत के एक गांव के शख्स के नाम पर लिया गया था. जब गांव के सरपंच से संपर्क किया गया, तो पता चला कि ये नंबर गांव के 28 साल के विक्की का है. फिर विक्की के परिवार से संपर्क किया गया. उसके परिजन ने बताया कि अधिक जानकारी के लिए विक्की के लिव इन पार्टनर से संपर्क किया जा सकता है. विक्की के परिजन ने बताया कि वो नीतू नाम की महिला के साथ लिव इन में रहता है.

एक दिन बाद, पुलिस ने हत्या के सिलसिले में घाटा गांव से 34 साल की नीतू को गिरफ्तार किया. पुलिस ने बताया कि नीतू वारदात को अंजाम देने के बाद विक्की का फोन और आईडी लेकर भाग गई थी. पुलिस ने बताया कि
नीतू अपने पति से अलग हो गई थी. उसके दो बच्चे एक 8 वर्षीय लड़का और एक 10 वर्षीय लड़की है. जब वह विक्की के साथ नहीं होती थी, तो वह बेहरामपुर में अपने घर में रहती थी. उसके बच्चे उसके साथ या घाटा में उसकी मां के साथ रहते थे.

2018 में हुई थी नीतू और विक्की की मुलाकात

पुलिस ने बताया कि 2018 में नीतू की मुलाकात विक्की से हुई थी. विक्की शहर के एक अस्पताल में दवा सप्लाई करता था. इस दौरान नीतू ने अपने बीमार कुत्ते के लिए उससे मदद मांगी थी. इस दौरान दोनों के बीच नंबर एक्सचेंज हुआ. फिर दोनों के बीच बातचीत होने लगी और थोड़े दिनों बाद दोनों ने एक दूसरे से प्यार का इजहार कर दिया. इसके बाद नीतू, विक्की के साथ लिव इन में रहने लगी. विक्की और नीतू कुछ महीने पहले ही टिकरी गांव में किराए के मकान में रहने आए थे.

नीतू और विक्की जिस मकान में आए थे, उसमें एल्यूमीनियम के तीन दरवाजे थे. मकान एक फ्लोर का ही था. घर के कैंपस में एक छोटा सा तिरपाल वाला शेड था. गांव की आबादी भी कुछ खास नहीं है, लिहाजा विक्की और नीतू को अधिकतर लोग जानते तक नहीं थे. टिकरी गांव का एक शख्स विक्की के घर से लगभग 200 मीटर की दूरी पर रहता है. उसने कहा कि विक्की और नीतू को कभी गांव में एक साथ नहीं देखा गया था. 

पुलिस ने दावा किया कि नीतू ने उन्हें पूछताछ बताया कि वो और विक्की दो अन्य महिलाओं के साथ उसके संबंधों को लेकर अक्सर झगड़ते थे. पुलिस ने बताया कि 17 मई को वे लोग घर के आंगन में बैठकर शराब पी रहे थे और इसी दौरान उनमें झगड़ा हो गया. इस दौरान विक्की ने नीतू की पिटाई कर दी. नीतू घर से चली गई, लेकिन जल्द ही अपने भाई के साथ वापस आ गई. फिर से बहस हुई. नीतू ने हमें बताया कि बहस जल्द ही हाथापाई में बदल गई. उसका भाई गुस्से में था. गुस्से में आकर नीतू ने तवा उठाया और विक्की को पीटना शुरू कर दिया. इसी दौरान विक्की की मौत हो गई.

वारदात के बाद नीतू अपने भाई के साथ हुई फरार

पुलिस ने दावा किया कि नीतू और उसके भाई ने आंगन से शव को घसीटकर बेडरूम में रख दिया और दोनों वहां से फरार हो गए. नीतू को तो गिरफ्तार कर लिया गया है, लेकिन उसका भाई अभी भी फरार है. आगे पूछताछ में जानकारी मिली कि विक्की का एक भाई सोनू पानीपत की एक फैक्ट्री में काम करता है. उसे सरपंच का फोन आया था कि तुम्हारे भाई विक्की का एक्सीडेंट हो गया है. फिर सोनू ने ये जानकारी अपनी मां को दी. इसके बाद विक्की की मां ने नीतू को फोन किया. नीतू ने कहा कि मैं गुरुग्राम में नहीं हूं और विक्की तीन दिनों से लापता है. 

सोनू के मुताबिक, लापता होने की बात पर हमने पुलिस ने हमसे संपर्क किया. पुलिस को हमलोगों ने जानकारी दी कि हमारा भाई विक्की अपनी लिव इन पार्टनर नीतू के साथ रहता है. विक्की के परिवार को पहले नीतू पर शक नहीं हुआ. पुलिस स्टेशन में सोनू ने अपने भाई विक्की के शव की तस्वीरें देखीं. उसका चेहरा खून से लथपथ था और सिर पर कई चोटें थीं. तब भी सोनू और परिवार के अन्य सदस्यों को नीतू पर शक नहीं हुआ, क्योंकि दोनों एक-दूसरे से प्यार करते थे. 

सोनू ने बताया कि विक्की ने 10वीं के बाद स्कूल छोड़ दिया था और इसके बजाय काम करना चाहता था. कुछ साल बाद, उसके पिता की मृत्यु हो गई. इसलिए वो गांव छोड़कर गुड़गांव चला गया और दवा कंपनी में नौकरी करने लगा. सोनू ने बताया कि 5 साल पहले उसने मुझे बताया था कि वो एक महिला के साथ रह रहा है. इसके बाद विक्की, नीतू को गांव में अपने घर ले आया. सोनू ने बताया कि हम उसे देखकर हैरान रह गए. सभी ने उनसे शादी करने के लिए कहा, लेकिन उन्होंने कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई... वह (नीतू) हमेशा हमारे साथ अच्छा व्यवहार करती थी.