menu-icon
India Daily
share--v1

दिल्ली में प्रदूषण बढ़ा या घटा? सरकार ने नियमों में किया है बड़ा बदलाव, सख्ती से होंगे लागू

एक्यूआई (AQI) 400 होने पर GRAP-3 लगाया जाता है, लेकिन एक्यूआई कम होने के बावजूद यह जारी रहा, क्योंकि दिवाली के बाद से अभी तक दिल्ली के एक्यूआई में लगातार उतार-चढ़ाव देखने को मिला था.

auth-image
Om Pratap
Delhi Pollution, AQI Level, GRAP Stage

हाइलाइट्स

  • दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने दी नए नियमों की जानकारी
  • प्रदूषण को देखते हुए कुछ नियमों का अभी भी सख्ती से होगा पालन

Delhi Pollution AQI Level GRAP Stage: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में अभी भी धुंध की चादर छाई हुई है. इसी बीच दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा है कि राजधानी में ग्रैप-3 को हटा दिया गया है, लेकिन सरकार की ओर से कोशिश है कि ग्रैप-1 और 2 को सख्ती से लागू किया जाए. पिछले दो दिनों के दौरान मौसम में बदलाव के कारण प्रदूषण के स्तर में गिरावट आई है. इसी के कारण वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग ने ग्रेप-3 के प्रतिबंध हटा दिए हैं. बीएस-3 पेट्रोल और बीएस-4 डीजल वाहनों पर प्रतिबंध और निर्माण आदि पर भी लगी रोक हटा दी गई है.

कब लागू होता है GRAP-3?

न्यूज एजेंसी एएनआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, एक्यूआई (AQI) 400 होने पर GRAP-3 लगाया जाता है, लेकिन एक्यूआई कम होने के बावजूद यह जारी रहा, क्योंकि दिवाली के बाद से अभी तक दिल्ली के एक्यूआई में लगातार उतार-चढ़ाव देखने को मिला था. उधर, मंत्री गोपाल राय ने कहा कि ग्रैप-2,1 को सख्ती से लागू करने के लिए सभी विभागों को दोबारा निर्देश दिए जा रहे हैं.

पहले की तरह ही होगी प्रदूषण की रोकथाम

उन्होंने आगे बताया कि शहर में प्रदूषण को रोकने के लिए सरकार की ओर से उठाए जाने वाले कदमों के बारे में भी बताया. कहा कि सभी 13 हॉट स्पॉट पर 60 मोबाइल स्मॉग गन काम करती रहेंगी. 215 मोबाइल एंटी-स्मॉग गाड़ियों के जरिए हर दिन चिह्नित सड़कों पर पानी का छिड़काव भी  किया जाएगा. निर्माण स्थलों पर निगरानी के लिए बनाई गईं 591 टीमें भी अपना काम जारी रखेंगी. 

...तो ग्रीन दिल्ली ऐप पर करें शिकायत

उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि दिल्ली में बायोमास जलाने की घटनाओं को रोकने के लिए 611 टीमें काम कर रही हैं. अभी भी पीएम 2.5 कणों में भारी वृद्धि हो रही है. पराली अब शून्य हो गई है, लेकिन पड़ोसी क्षेत्रों से बायोमास जलाने की घटनाएं हो रही हैं. हम हर कदम उठा रहे हैं ताकि GRAP-3 लागू करने की स्थिति फिर से पैदा न हो. उन्होंने कहा कि वर्तमान में प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण बायोमास जलाना है. इसके लिए लोग ग्रीन दिल्ली ऐप पर शिकायत कर सकते हैं.