menu-icon
India Daily
share--v1

भारत में बना सबसे लंबा समुद्री पुल 'अटल सेतु', नीचे से निकल सकता है दुनिया का सबसे बड़ा मालवाहक जहाज, जानें खास बात 

Longest Sea Bridge Atal Setu: मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक का इस्तेमाल करने के लिए आपको एक तरफ की यात्रा के लिए 250 रुपये का टोल देना होगा जबकि राउंड ट्रिप के लिए 375 रुपये खर्च करने होंगे. 

auth-image
Amit Mishra
atal setu

Longest Sea Bridge Atal Setu: देश का सबसे लंबा और आधुनिक समुद्री पुल बनकर तैयार हो गया है. इसका पुल का उद्घाटन 12 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) करेंगे. मुंबई (Mumbai) से नवी मुंबई को जोड़ने वाला ये पुल देश का सबसे बड़ा समुद्री पुल है जो 22 किलोमीटर लंबा है. इससे दक्षिण मुंबई से नवी मुंबई की दूरी आसानी से तय हो जाएगी. इस पुल की सबसे खास बात ये है कि इसके नीचे से दुनिया का सबसे बड़ा मालवाहक जहाज निकल सकता है. इस पुल का पूरा नाम है-अटल बिहारी वाजपेई शिवडी न्हावा शेवा अटल सेतु. 

ट्रैवल टाइम में आएगी कमी

18,000 करोड़ की लागत से बना मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक मुंबई के सेवरी से शुरू होता है और रायगढ़ जिले के उरण तालुका के न्हावा शेवा में समाप्त होता है. मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट और नवी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट के बीच कनेक्टिविटी देगा. साथ ही इससे मुंबई से पुणे, गोवा और दक्षिण भारत की यात्रा का समय भी कम हो जाएगा. इस पुल के बनने से मुंबई पोर्ट और जवाहरलाल नेहरू पोर्ट के बीच संपर्क में भी सुधार होगा. इससे मुंबई और नई मुंबई के बीच ट्रैवल टाइम में कमी आएगी. अभी इस यात्रा में करीब 2 घंटे का समय लगता है. मुंबई ट्रांस-हार्बर लिंक के खुलने के बाद ये दूरी महज 20 मिनट में पूरी हो सकेगी. इससे ट्रैफिक जाम से राहत मिलने की उम्मीद है. 

ब्रिज पर हैं 2 एक्सेस प्वाइंट 

मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक का इस्तेमाल करने के लिए आपको एक तरफ की यात्रा के लिए 250 रुपये का टोल देना होगा जबकि राउंड ट्रिप के लिए 375 रुपये खर्च करने होंगे. राज्य सरकार कगे मुताबिक एक साल के बाद टोल की समीक्षा की जाएगी. मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक का मंथली पास 12,500 रुपये का होगा. इसके निर्माण में 177,903 मीट्रिक टन स्टील और 504,253 मीट्रिक टन सीमेंट का इस्तेमाल किया गया है. इस ब्रिज पर अभी केवल 2 एक्सेस प्वाइंट हैं. इनमें से एक ऐरोली-मुलुंड कनेक्टर और दूसरा वाशी कनेक्टर है. 

जानिए पुल क्यों है खास 

- मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक पर चार पहिया वाहनों के लिए अधिकतम गति सीमा 100 किमी प्रति घंटे होगी.

- मोटरसाइकिल, मोपेड, तिपहिया वाहन, ऑटो, ट्रैक्टर, जानवरों द्वारा खींचे जाने वाले वाहन और धीमी गति से चलने वाले वाहनों के लिए कोई प्रवेश नहीं होगा।

- एमटीएचएल एक 6-लेन समुद्री लिंक है, जिसका विस्तार समुद्र पर 16.50 किलोमीटर और भूमि पर 5.5 किलोमीटर है.

- मोटर चालक मुंबई और नवी मुंबई के बीच की दूरी केवल 20 मिनट में तय कर सकेंगे, अन्यथा इसमें 2 घंटे लगते हैं.

- पुल के चढ़ने और उतरने पर गति 40 किमी प्रति घंटे तक सीमित रहेगी.

- कार, टैक्सी, हल्के मोटर वाहन, मिनी बस और टू-एक्सल बसों जैसे वाहनों की गति सीमा 100 किलोमीटर प्रति घंटा होगी.

- मोटरबाइक, ऑटो रिक्शा और ट्रैक्टरों को समुद्री पुल पर अनुमति नहीं दी जाएगी. 

- पुल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस वाले 400 सीसीटीवी कैमरों से लैस है. 

- समुद्र में हर साल सर्दियों में आने वाले फ्लेमिंगो पक्षी को भी ध्यान में रखा गया है. इसके लिए ब्रिज के किनारे साउंड बैरियर लगाया गया है. 

- इस ब्रिज से कोई भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर (BRC) की तस्वीर या वीडियो ना ले इसके लिए व्यू बैरियर लगाया गया है.

- ऐसी लाइट्स लगी हैं, जोकि सिर्फ ब्रिज पर पड़ें और समुद्री जीवों का नुकसान ना हो.