menu-icon
India Daily
share--v1

Aaj Ka Panchang: मंगलवार बन जाएगा शुभवार, पंचांग से जानें किस मुहूर्त पर बनेंगे सारे काम

Aaj Ka Panchang: आइए जानते हैं 21 मई 2024, मंगलवार के महत्वपूर्ण पंचांग जानकारी के बारे में जिसके आधार पर आप अपने दिन की योजना बना सकते हैं और शुभ कार्यों को शुभ मुहूर्त में करने का चुनाव कर सकते हैं.

auth-image
India Daily Live
panchang

Aaj Ka Panchang: हिंदू धर्म में पंचांग का इस्तेमाल दिन के उन कालों की गणना के लिए किया जाता है जिसमें सबसे ज्यादा शुभ और अशुभ कार्य होने की संभावना होती है. इसी आधार पर आइए मंगलवार, 21 मई 2024 के लिए विस्तृत पंचांग को देखते हैं, जो आपके रोजाना के कार्यों और निर्णय लेने में आपकी मदद करेगा.

तिथि (Tithi): दिन की शुरुआत वैशाख शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि से होगी. यह तिथि कार्यों को पूरा करने और संपत्ति संचय के लिए शुभ मानी जाती है. शाम 5 बजकर 41 मिनट के बाद चतुर्दशी तिथि लग जाएगी. चतुर्दशी तिथि अध्यात्मिक कार्यों और भगवान की उपासना के लिए उत्तम मानी जाती है.

नक्षत्र (Nakshatra): पूरा दिन स्वाति नक्षत्र का प्रभाव रहेगा. स्वाति नक्षत्र शांत, सौम्य और शुभ फलदायी माना जाता है. इस नक्षत्र के दौरान कलात्मक कार्यों को सीखने या करने, मित्रों से मिलने-जुलने, वस्त्रों की खरीदारी करने और शुभ कार्यों को संपन्न करने के लिए उत्तम समय माना जाता है.

योग (Yoga): प्रातःकाल से लेकर दोपहर 12 बजकर 36 मिनट तक व्यतिपात योग रहेगा. व्यतिपात योग किसी भी शुभ कार्य के लिए अशुभ माना जाता है. इस दौरान महत्वपूर्ण कार्यों को करने से बचना चाहिए. इसके बाद वरीयान योग प्रारंभ हो जाएगा. वरीयान योग मंगल कार्यों और यात्रा के लिए शुभ माना जाता है.

करण (Karana): दिन की शुरुआत तैतिल करण से होगी. तैतिल करण के दौरान कोई भी नया कार्य प्रारंभ नहीं करना चाहिए. शाम 5 बजकर 40 मिनट के बाद गर करण प्रारंभ हो जाएगा. गर करण के दौरान शत्रुओं पर विजय प्राप्ति और मुखबरी के कार्यों के लिए शुभ माना जाता है.

ग्रहों की स्थिति (Planetary Positions):

  • चंद्रमा: आज चंद्रमा वृष राशि में विराजमान रहेंगे. चंद्रमा का वृष राशि में गोचर भोग-विलास और प्रेम संबंधों के लिए शुभ माना जाता है.
  • सूर्य: सूर्य वृष राशि में स्थित होंगे. सूर्य का वृष राशि में गोचर आर्थिक मामलों के लिए लाभदायक हो सकता है.

शुभ मुहूर्त (Shubh Muhurat):

  • अभिजीत मुहूर्त: सुबह 11 बजकर 55 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 47 मिनट तक. किसी भी शुभ कार्य को करने के लिए यह सर्वोत्तम मुहूर्त्त माना जाता है.
  • अमृत काल मुहूर्त: सुबह 6 बजकर 3 मिनट से लेकर सुबह 7 बजकर 56 मिनट तक. इस मुहूर्त में किए गए कार्यों में सफलता की प्राप्ति होती है.
  • गोधूलि मुहूर्त: शाम 6 बजकर 44 मिनट से लेकर शाम 7 बजकर 5 मिनट तक. धार्मिक कार्यों और पूजा-पाठ के लिए गोधूलि मुहूर्त को उत्तम माना जाता है.
  • त्यौहार (Festival): 21 मई को भगवान विष्णु के नरसिंह अवतार की जयंती यानी नरसिंह जयंती मनाई जाएगी. इस दिन भक्त विष्णु भगवान के नरसिंह स्वरूप की पूजा कर उनका आशीर्वाद प्राप्त करते हैं.

राहुकाल (Rahu Kaal): ध्यान रहे! आज का राहुकाल दोपहर 1 बजकर 42 मिनट से शाम 3 बजकर 24 मिनट के बीच रहेगा. राहुकाल के दौरान कोई भी शुभ कार्य करने से बचना चाहिए.