menu-icon
India Daily
share--v1

क्यों नहीं बजाया जाता है बद्रीनाथ धाम में शंख? रहस्य जान रह जाएंगे हैरान

auth-image
India Daily Live

Badrinath Temple: हर साल कई श्रद्धालु बद्रीनाथ धाम के दर्शन करने के लिए आते हैं. बद्रीनाथ धाम मंदिर चार धाम में सबसे बड़ा धाम है. आमतौर पर हिंदू धर्म में हर मंदिर में शंख बजाए जाते हैं. लेकिन बद्रीनाथ मंदिर में जहां शंखनाद नहीं किया जाता है. आइए जानते इसके पीछे की वजह से बारे में

बद्रीनाथ धाम में शंख न बजाने का एक बड़ा कारण है. दरअसल ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर के प्रांगण जिसे तुलसी भवन के नाम से भी जाता है वहां एक बार लक्ष्मी जी ने ध्यान मुद्रा में थी. वहीं, भगवान विष्णु ने उस दौरान शंखचूर्ण  दैत्य का संहार किया था. लेकिन भगवान विष्णु ने दैत्य शंखचूर्ण का वध करने के बाद शंख नहीं बजाया था क्योंकि लक्ष्मी जी ध्यान-साधना कर रही थी और भगवान विष्णु नहीं चाहते थे की इस बीच किसी तरह का कोई विघ्न आए. बता दें, हिंदू धर्म में किसी भी युद्ध में जीतने के बाद शंखनाद किया जाता है.

Disclaimer: यहां दी गई सभी जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.  theindiadaily.com  इन मान्यताओं और जानकारियों की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह ले लें.