share--v1

प्राण-प्रतिष्ठा से पहले चटाई पर सोते थे प्रधानमंत्री मोदी, क्या आप जानते हैं जमीन पर सोने के फायदे?

11 दिनों के विशेष अनुष्ठान के दौरान पीएम मोदी ने पूरे नियम-कानून अपनाया था. इस दौरान उन्होंने उपवास रखा था और 11 दिनों तक जमीन पर चटाई पर सोये थे.

auth-image
Aparajita Singh

22 जनवरी को अयोध्या में श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा हो चुकी है. प्रधानमंत्री प्राण प्रतिष्ठा के मुख्य यजमान थे. उन्होंने ये पूजा करने के लिये जरूरी नियमों का पालन किया था. इन नियमों को 'यम नियम' कहा जाता है. 12 जनवरी को अनुष्ठान के बाद से ही प्रधानमंत्री उपवास पर थे. वो सिर्फ नारियल पानी पीते थे. इतना ही नही, उन्होंने इस दौरान चारपाई का त्याग कर दिया था. 11 दिनों तक वो जमीन पर कंबल ओढ़ कर सोये थे. ऐसा करने से अंतरात्मा की शुद्धि तो होती ही है, इसके साथ ही जमीन पर सोने से आपकी सेहत को भी बहुत फायदा मिलता है.

बॉडी पॉस्चर

आज कल लोगों में खास कर युवाओं में खराब बॉडी पॉस्चर की समस्या काफी देखने को मिलती है. ऐसी स्थिति में जमीन पर सोना काफी फायदेमंद होता है. इसके साथ ही जमीन पर सोने से बॉडी की फ़्लेक्सबिलिटी भी बढ़ती है. समतल जमीन पर सोना आपके शरीर के सभी पार्ट्स में एक बैलेंस बनाता है. जमीन पर सोना न सिर्फ आपके खराब गर्दन के पॉस्चर को ठीक करता है बल्कि इससे कमर और कंधों के पॉस्चर भी ठीक होते हैं. 

ब्लड सर्कुलेशन

जमीन पर सोने के बहुत से फायदे हैं. इससे आपके शरीर का ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है. जमीन पर सोने से शरीर की मांसपेसियों के तनाव कम होता है और इससे हार्ट हेल्थ भी ठीक रहती है. इसके साथ ही जिन लोगों में हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है. उनके लिए जामों पर सोना काफी अच्छा माना जाता है. 

दर्द से छुटकारा 

आज कल गलत तरीके से उठने-बैठने और सोने के कारण खास कर युवाओं में कमर दर्द और पीठ दर्द की समस्या रहती है. ऐसे लोगों को समतल जमीन पर सोना चाहिए. दरअसल मुलायम और मोटे गद्दे पर सोने से आपके शरीर और रीढ़ की हड्डी का अलाइनमेंट बिगड़ जाता है. जिसके कारण पुअर स्लीप पोस्चर की समस्या बढ़ जाती है. 

स्ट्रेस में कमी 

जमीन पर सोना न सिर्फ आपके शारीरिक हेल्थ के लिए अच्छा है बल्कि आपके  मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है. जमीन पर सोने से दिमाग शांत रहता है. इसके साथ ही नींद भी अच्छी आती है. इससे आपकी स्लिप क्वालिटी बढ़ती है और आप तरो-ताजा महसूस करते हैं.

Also Read

First Published : 23 January 2024, 09:21 AM IST