share--v1

'भारत एक भरोसेमंद दोस्त है, उसने हमें आश्रय दिया', बांग्लादेश में चुनाव के बीच PM शेख हसीना का बयान

बांग्लादेश में 12वें आम चुनाव के लिए वोटिंग जारी है. वोटिंग के बीच बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने भारत की तारीफ की है. उन्होंने कहा कि भारत भरोसेमंद दोस्त है. नई दिल्ली ने 1971 के मुक्ति संग्राम के दौरान उनके देश के लोगों को आश्रय दिया था.

auth-image
Om Pratap

हाइलाइट्स

  • लगातार चौथी बार सत्ता में काबिज होने के तैयार हैं हसीना
  • मुख्य विपक्षी पार्टी BNP ने किया है चुनाव का बहिष्कार

Bangladesh general election voting Sheikh Hasina lauded India: बांग्लादेश में आम चुनाव के लिए आज वोटिंग जारी है. मतदान के बीच बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने भारत की तारीफ की. बाग्लादेश में सत्तारूढ़ आवामी लीग की चीफ 76 साल की शेख हसीना ने कहा कि भारत विश्वसनीय मित्र है. उन्होंने कहा कि ये भारत ही था, जिसने 1971 में मुक्ति संग्राम के दौरान बांग्लादेश के लोगों को शरण दी थी.

चुनाव के दिन भारत के लिए अपने संदेश के बारे में पूछे जाने पर हसीना ने कहा कि हम बहुत भाग्यशाली हैं कि भारत हमारा भरोसेमंद दोस्त है. हमारे मुक्ति संग्राम के दौरान उन्होंने हमारा समर्थन किया. बता दें कि भारत और बांग्लादेश ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और आर्थिक संबंधों को शेयर करते हैं. दोनों देशों के संबंध काफी घनिष्ठ हैं. ये संंबंध पिछले कुछ सालों में और भी मजबूत हुए हैं.

लगातार चौथी बार सत्ता में काबिज होने के तैयार हैं हसीना

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच कई मुद्दों पर द्विपक्षीय बातचीत लगातार होती रहती है. बता दें कि सत्तारूढ़ अवामी लीग की नेता हसीना प्रधानमंत्री के रूप में लगातार चौथी बार जीतने के लिए तैयार हैं. ये उनकी पार्टी की कुल पांचवीं जीत होगी. आज बांग्लादेश में सुबह आठ बजे से वोटिंग शुरू हुई, जो शाम चार बजे तक जारी रहेगी. वोटिंग से पहले देश के कुछ इलाकों में हुए हिंसा को देखते सुरक्षा के तमाम उपाय किए गए हैं. जानकारी के मुताबिक, वोटिंग खत्म होने के तुरंत बाद वोटों की गिनती शुरू हो जाएगी. सोमवार को नतीजे आने की संभावना है. बता दें कि मतदान केंद्रों की संख्या 42,000 है और देश भर में 2,62,000 बूथों पर मतदान होगा.

मुख्य विपक्षी पार्टी BNP ने किया है चुनाव का बहिष्कार

उधर, देश की मुख्य विपक्षी पार्टी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) की ओर से चुनाव का बहिष्कार किया जा रहा है. बीमार पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया की बीएनपी ने चुनाव का बहिष्कार करने का फैसला किया है, क्योंकि हसीना ने इस्तीफा देने और कार्यवाहक सरकार को चुनाव चलाने की मांग से इनकार कर दिया. मतदान से पहले के कुछ दिनों में बांग्लादेश में हिंसा की कई घटनाएं सामने आईं हैं. मतदान से एक दिन पहले भी उपद्रवियों ने कई मतदान केंद्रों पर जमकर उत्पात मचाया. कई मतदान केंद्रों में आग लगा दी.

शेख हसीना की पार्टी आवामी लीग का किससे मुकाबला?

बांग्लादेशी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रधानमंत्री शेख हसीना की पार्टी आवामी लीग का मुकाबला निर्दलीय उम्मीदवारों से हैं. बता दें कि 299 संसदीय सीटों के लिए 1,969 उम्मीदवार मैदान में हैं. नौगांव-2 में एक निर्दलीय उम्मीदवार की मौत के बाद चुनाव स्थगित कर दिया गया था. आज होने वाले चुनाव में 11 करोड़, 96 लाख, 89 हजार 289 मतदाता वोटिंग के लिए रजिस्टर्ड हैं. इनमें से 6,76,09,741 पुरुष, 5,89,18,699 महिलाएं और 849 ट्रांस-जेंडर हैं.  

कुल 11 करोड़ से अधिक मतदाता 28 राजनीतिक दलों के 1,534 और 436 निर्दलीय उम्मीदवारों सहित कुल 1,970 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे. राजनीतिक दलों और निर्दलीयों से कुल 90 महिला उम्मीदवार और जातीय अल्पसंख्यक और अन्य समूहों से 79 महिला उम्मीदवार चुनाव में भाग ले रही हैं. उम्मीदवारों में सत्तारूढ़ अवामी लीग (एएल) से 266, जातीय पार्टी (जापा) से 265, त्रिनोमुल बीएनपी से 135, जातीय समाजतांत्रिक दल (जेएएसएडी) से 66, नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) से 122, जातीय पार्टी से 13 ( जेपी) और 10 बिकल्पा धारा बांग्लादेश से चुनाव लड़ रहे हैं.

मतदान से पहले सुरक्षा कड़ी कर दी गई

आम चुनाव के लिए वोटिंग से पहले कुछ राज्यों में हिंसा की छिटपुट घटनाएं सामने आईं थीं. हिंसा की इन घटनाओं को देखते हुए पूरे बांग्लादेश में सुरक्षा व्यवस्थाएं बढ़ा दी गईं हैं. चुनावी प्रक्रिया के दौरान कानून व्यवस्था बनाए रखने में पुलिस की सहायता के लिए बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश (बीजीबी) और सेना के जवानों को देश के 42,000 मतदान केंद्रों पर तैनात किया गया है. 

बांग्लादेश चुनाव आयोग ने कहा है कि देश भर के सभी निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान की तैयारी लगभग पूरी कर ली गईं हैं और सुरक्षा व्यवस्था भी सुनिश्चित कर ली गईं हैं. बांग्लादेश में कड़े सुरक्षा उपायों के तहत 12वें आम चुनाव पर भारत के 3 प्रतिनिधियों समेत 100 से अधिक अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षक नजर रखेंगे. चुनाव आयोग के अतिरिक्त सचिव अशोक कुमार देबनाथ ने कहा कि दुनिया भर के विभिन्न देशों के 2,000 समेत कुल 20,773 पर्यवेक्षक चुनावों की निगरानी कर रहे हैं. चुनाव पर्यवेक्षकों में मीडिया कर्मी भी शामिल हैं.

Also Read

First Published : 07 January 2024, 11:00 AM IST