share--v1

22 जनवरी को PM मोदी के हाथों होगी रामलला की प्राण प्रतिष्ठा, जानें कैसी चल रही मंदिर निर्माण की तैयारी

Ram Mandir Pran Pratishtha:अयोध्या में तीन मंजिला राम मंदिर के ग्राउंड फ्लोर निर्माण दिसंबर के अंत तक पूरा हो जाएगा. जिसके बाद 22 जनवरी को रामलला का प्राण प्रतिष्ठा समारोह के आयोजन किया जाएगा.जिसमें पीएम नरेंद्र मोदी शामिल होंगे.

auth-image
Avinash Kumar Singh
Last Updated : 02 November 2023, 05:53 AM IST
फॉलो करें:

Ram Mandir Pran Pratishtha: रामलला की मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को पूरे देश में मेगा इवेंट बनाने की तैयारी युद्ध स्तर पर शुरू हो चुकी है. अयोध्या में तीन मंजिला राम मंदिर के ग्राउंड फ्लोर निर्माण दिसंबर के अंत तक पूरा हो जाएगा. जिसके बाद 22 जनवरी को रामलला का प्राण प्रतिष्ठा समारोह के आयोजन किया जाएगां.

PM मोदी की मौजूदगी में इस दिन होगी रामलला की प्राण प्रतिष्ठा

रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की निर्माण समिति के प्रमुख नृपेंद्र मिश्रा ने बड़ी जानकारी साझा किया है. उन्होंने बताया कि 20-24 जनवरी के दौरान किसी भी दिन प्राण प्रतिष्ठा से संबंधित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शामिल होने की उम्मीद है. प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से अभी तक इस बारे में कोई अंतिम तारीख तय नहीं किया गया है. ट्रस्ट ने पीएम मोदी को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के आयोजन में शामिल होने के लिए आमंत्रण पत्र भेजा है. जिसमें अंतिम तारीखों को लेकर अंतिम फैसला प्रधानमंत्री कार्यालय को लेना है.

राम मंदिर निर्माण को लेकर नृपेंद्र मिश्रा ने साझा की जानकारी 

राम मंदिर निर्माण को लेकर नृपेंद्र मिश्रा ने कहा कि एक उपकरण डिजाइन करने पर काम चल रहा है जिसे मंदिर के शिखर पर स्थापित किया जाएगा. जिससे हर साल राम नवमी के दिन गर्भगृह में देवता के माथे पर सूर्य की किरणें क्षण भर के लिए पड़ेंगीं. इसे बेंगलुरु में बनाया जा रहा है और इसके डिजाइन की देखरेख वैज्ञानिक कर रहे हैं. केंद्रीय भवन अनुसंधान संस्थान, रुड़की और पुणे के एक संस्थान ने संयुक्त रूप से इसके लिए एक कम्प्यूटरीकृत कार्यक्रम बनाया है.

रामलला की मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का होगा लाइव प्रसारण

श्री राम जन्मभूमि मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम का लाइव प्रसारण सभी गांवों और नगरों में होगा. प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के 10 दिन पहले से सभी जगहों पर राम नाम संकीर्तन शुरू किया जाएगा. 5 लाख से अधिक मंदिरों में राम नाम संकीर्तन शुरू कराया जाएगा और इसमें सिख, जैन समेत सभी धर्मों के धर्मावलंबियों को जोड़े जाने की योजना है. कार्यक्रम के बाद मौजूद लोगों को तो प्रसाद दिया ही जाएगा साथ ही घर-घर प्रसाद भी बांटने की योजना भी है. इसके लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से तमाम तैयारियां को मुकम्मल रुप दिया जा रहा है.

यह भी पढ़ें: शरद पवार ने महिला आरक्षण बिल को लेकर PM मोदी पर कसा तंज, 'शायद उनको मालूम नहीं कि...'