क्यों आता है भूकंप, कितनी तीव्रता के झटके से कितना नुकसान?


प्लेट्स अपनी जगह से हिलती रहती है

    धरती चार परतों से बनी हुई है. जिन्‍हें इनर कोर, आउटर कोर, मैन्‍टल और क्रस्ट कहा जाता है. प्लेट्स अपनी जगह से हिलती और खिसकती रहती हैं.

Credit: google

कैसे हिलती है धरती?

    प्लेट्स कभी-कभी एक-दूसरे से टकरा जाती हैं. ऐसे में ही भूकंप आता है और धरती हिल जाती है.

Credit: google

कैसे मापी जाती है भूकंप की तीव्रता?

    भूकंप की तीव्रता मापने के लिए रिक्टर स्केल का इस्तेमाल किया जाता है. भूकंप की तरंगों को रिक्टर स्केल 1 से 9 तक के आधार पर मापता है.

Credit: google

0 से 1.9

    0 से 1.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर सिर्फ सीज्मोग्राफ से ही पता चलता है.

Credit: google

google

    2 से 2.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर हल्का कंपन महसूस होता है.

Credit: 2 से 2.9

3 से 3.9

    3 से 3.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर कोई ट्रक आपके नजदीक से गुजर जाए, ऐसा असर होता है.

Credit: google

4 से 4.9

    4 से 4.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर खिड़कियां टूट सकती हैं. दीवारों पर टंगी फ्रेम गिर सकती हैं.

Credit: google

5 से 5.9

    5 से 5.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर फर्नीचर हिल सकता है.

Credit: google

6 से 6.9

    6 से 6.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर इमारतों की नींव दरक सकती है. ऊपरी मंजिलों को नुकसान हो सकता है.

Credit: google

7 से 7.9

    7 से 7.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर इमारतें गिर जाती हैं. जमीन के अंदर पाइप फट जाते हैं.

Credit: google

8 से 8.9

    8 से 8.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर इमारतों सहित बड़े पुल भी गिर जाते हैं.

Credit: google

9 और उससे ज्यादा

    9 और उससे ज्यादा रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर पूरी तबाही. कोई मैदान में खड़ा हो तो उसे धरती लहराते हुए दिखेगी. समंदर में सुनामी आएगी.

Credit: google
More Stories