'मेरी पत्नी रोने लगी थी...मां का भी था बुरा हाल,' ये बोलकर संन्यास क्यों ले रहे सुनील छेत्री?


सुनील छेत्री

    भारतीय फुटबॉल टीम के स्टार खिलाड़ी और कप्तान सुनील छेत्री ने अपने फुटबॉल करियर को अलविदा कह दिया है.

Credit: Twitter

6 जून को आखिरी मैच

    भारतीय फुटबॉल का यह दिग्गज 6 जून को कुवैत के खिलाफ वे अपने करियर का आखिरी मुकाबला खेलेगा.

Credit: Twitter

मेरी पत्नी और मां रोने लगीं

    सुनील ने बताया कि जब उन्होंने संन्यास का फैसला परिवार को बताया तो पिता खुश थे, लेकिन मेरी पत्नी और मां रोने लगीं.

Credit: Twitter

मेरा आखिरी गेम

    छेत्री ने पत्नी से कहा 'आप हमेशा मुझे परेशान करते थे कि बहुत सारे खेल हैं, बहुत अधिक दबाव है, अब मैं आपको बता रहा हूं कि मैं इस खेल के बाद अपने देश के लिए नहीं खेलूंगा.'

Credit: Twitter

आंसू क्यों थे पता नहीं

    सुनील छेत्री ने मेरा यह फैसला सुनकर कहा उन दोनों (मां-पत्नी) की आंखों में आंसू क्यों थे? वे इस बारे में मुझे नहीं बता सके.

Credit: Twitter

काफी सोचकर लिया फैसला

    ऐसा नहीं है कि मैं थका महसूस कर रहा था, मैने अपने आखिरी गेम को लेकर काफी सोचा और आखिरकर संन्यास का फैसला लिया.

Credit: Twitter

संन्यास लेकर दुखी होंगे?

    सुनील ने इस बात पर भी हामी भरी कि वो संन्यास लेने के बाद दुखी हो जाएंगे. उन्होंने कहा जब ऐसा सोचा था लगा कि हां...

Credit: Twitter

युवाओं को मिले मौका

    सुनील छेत्री चाहते हैं कि टीम में युवा खिलाड़ियों को मौके मिलें, इसलिए उन्होंने सही समय के साथ संन्यास का फैसला किया है.

Credit: Twitter

2005 में डेब्यू

    सुनील छेत्री ने 2005 में डेब्यू किया था, उन्होंने कुल 19 साल भारत के लिए खेला, इस दौरान 150 मैचों में 94 गोल किए.

Credit: Twitter

उपलब्धियां

    सुनील छेत्री को साल 2011 में अर्जुन अवॉर्ड और साल 2019 में पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

Credit: Twitter

6 बार AIFF प्लेयर ऑफ द ईयर बने

    सुनील छेत्री ने अपने 19 साल के करियर में 6 बार AIFF प्लेयर ऑफ द ईयर का अवॉर्ड जीता है

Credit: Twitter
More Stories