menu-icon
India Daily
share--v1

इजरायल-हमास के बीच जारी संघर्ष में UN के 88 कर्मचारी मारे गए, संयुक्त राष्ट्र ने की पुष्टि

गाजा में UN के 88 कर्मचारी मारे गए हैं. यह संयुक्त राष्ट्र के किसी एक संघर्ष में हुई मौतों का अब तक का सबसे बड़ा आंकडा है.

auth-image
Antriksh Singh
इजरायल-हमास के बीच जारी संघर्ष में UN के 88 कर्मचारी मारे गए, संयुक्त राष्ट्र ने की पुष्टि

इजरायल-हमास युद्ध को 30 दिन पूरे हो चुके हैं लेकिन इस युद्ध का विराम होने का कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा है. लगातार दोनों पक्ष एक दूसरे पर हमले कर रहे हैं, जिसमें अब तक 9000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इसी बीच सोमवार को संयुक्त राष्ट्र की तरफ से एक बयान जारी किया गया जिसमें कहा गया है कि गाजा में  उसके 88 कर्मचारी मारे गए हैं. यह संयुक्त राष्ट्र के किसी एक संघर्ष में हुई मौतों का अब तक का सबसे बड़ा आंकडा है.

गाजा में UN द्वारा संचालित स्कूल पर हमला

बता दें कि दो दिन पहले इजरायल हमले में संयुक्त राष्ट्र द्वारा संचालित स्कूल, जो गाजा सिटी क्षेत्र में है, को निशाना बनाया गया था. यह विस्थापितों के लिए शेल्टर के तौर पर प्रयोग हो रहा था जिसमें UN के लोगों की भी मौत हो गई है. संयुक्त राष्ट्र के प्रमुखों के एक संयुक्त बयान में कहा गया है कि यह आंकडा अब तक की संयुक्त राष्ट्र के लोगों की मौत का सबसे बडा आकंडा है.

इजरायल-हमास युद्ध तुरन्त बंद हो

द टाइम्स ऑफ इजरयाल की रिपोर्ट के अनुसार, UN ने गाज में अपने कर्मचारियों की मौत पर आक्रोश व्यक्त किया है. UN ने इजरायल-ह्मास युद्ध को तत्काल बंद करने के लिए कहा है. इसी बीच उसने यह भी मांग की है कि हमास को इजरायल से अगवा किये गए लोगों को रिहा कर देना चाहिए. बहुत हो गया अब यह युद्ध रुकना चाहिए.

इजरायल के पीएम क्या बोले

इजरायल की रिपोर्ट के अनुसार इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू ने रविवार को घोषणा की कि इजरायल तब तक यु्द्धविराम नहीं करेगा तब तक हमास के आतंकी हमारे बंधकों को रिहा नहीं कर देते है. अभी भी गाजा में हमास द्वारा 240 इजरायली लोग बंधक है. नेतन्याहू पहले भी यह बोल चुके हैं कि जब तक हमास को नष्ट नहीं कर देते तब तक युद्धविराम नहीं होगा.

UAE और चीन की बैठक

UAE के एक प्रवक्ता ने भी कहा कि गाजा में बिगड़ती स्थिति और अल शिफा अस्पताल पर हमले और जबालिया शरणार्थी शिविर पर बार-बार हमलों को देखते हुए UAE और चीन ने बैठक बुलाने का आह्वान किया है.