चुनावी पिच पर साथ आएंगे राजा भैया और अखिलेश, जानें उनके तिलिस्म की कहानी!


राजा भैया

    यूपी की सियासत में राजा भैया और अखिलेश यादव पुरानी कड़वाहट को भुलाकर फिर से एक साथ नजर आ सकते है.

Credit: Social media

दोस्ती का हाथ

    UP में राज्यसभा चुनाव के जरिये दोनों नेताओं ने दोस्ती का हाथ आगे बढ़ाया है.

Credit: Social media

समर्थन

    सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने बीते दिनों राजा भैया से मुलाकात करके राज्यसभा चुनाव में उनका समर्थन मांगा था.

Credit: Social media

2019 की घटना

    2019 राज्यसभा चुनाव के बाद अखिलेश यादव और राजा भैया के बीच मनुटाव काफी बढ़ गया था. अब रिश्तों में जमी बर्फ पिघलने लगी है.

Credit: Social media

फोन पर बात

    नरेश उत्तम पटेल ने अखिलेश यादव की राजा भैया से फोन पर बातचीत कराई.

Credit: Social media

सातवीं बार विधायक

    2022 विधानसभा चुनाव में राजा भैया ने कुंडा विधानसभा सीट से लगातार सातवीं बार जीत दर्ज की थी.

Credit: Social media

सलाखों के पीछे

    मायावती से सियासी अदावत के चलते उन्हें लंबे समय तक जेल में रहना पड़ा. पोटा कानून के तहत उनको 11 महीने तक जेल में रहना पड़ा.

Credit: Social media

पोटा कानून

    CM बनते मुलायम सिंह ने राजा भैया पर से पोटा कानून हटाया. जेल से बाहर आने के बाद राजा भैया को मुलायम सिंह यादव ने अपनी सरकार में मंत्री बनाया.

Credit: Social media

जिया-उल हक हत्याकांड

    जिया-उल हक हत्याकांड मामले में नाम आने पर अखिलेश ने अपनी सरकार से उनको हटा दिया था.सीबीआई से क्लीन चिट मिलने के बाद फिर उन्हें मंत्री बनाया.

Credit: Social media

कुंडा में कुंडी

    विधानसभा चुनाव के दौरान अखिलेश यादव ने कुंडा में कुंडी लगाने वाला बयान दिया था. जिसके बाद राजा ने पलटवार करते हुए कहा कि धरती पर अभी कोई माई का लाल पैदा नहीं हुआ, जो कुंडा में कुंडी लगा दें.

Credit: Social media

कौन राजा भईया?

    विधानसभा चुनाव के दौरान प्रतापगढ़ पहुंचे अखिलेश यादव ने राजा भइया को पहचानने से इनकार करते पूछा था कौन हैं राजा भईया.

Credit: Social media
More Stories