WC 2023: 31 साल में दुनिया बदली, नहीं बदले तो 'चोकर्स'


Antriksh Singh
2023/11/16 23:15:38 IST

    साउथ अफ्रीका का चोकिंग का इतिहास 1992 से चला आ रहा है. तब प्रोटियाज की क्रिकेट में वापसी ही हुई थी.

Credit: Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media

    1992 के सेमीफाइनल में दक्षिण अफ्रीका को जीत के लिए 13 गेंदों में 22 रन बनाने थे. लेकिन बारिश हो गई और ब्रेक के बाद प्रोटियाज को जीत के लिए सिर्फ एक गेंद पर 22 रन चाहिए थे.

Credit: Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media

    1999 में साउथ अफ्रीका का सामना ऑस्ट्रेलिया से हुआ. एलन डोनाल्ड के रन-आउट के चलते ये मैच टाई हुआ था. ऑस्ट्रेलिया बेहतर रन रेट के चलते फाइनल में पहुंचा.

Credit: Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media

    2003 के विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका को सुपर-8 में जगह बनाने के लिए अपने आखिरी ग्रुप स्टेज मैच में जीत की जरूरत थी. श्रीलंका के खिलाफ इस मैच में बारिश आ गई थी.

Credit: Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media

    तब मार्क बाउचर क्रीज पर मौजूद होकर ये नहीं समझ सके कि उन्हें डीएलएस के बराबर के स्कोर से आगे निकलने के लिए एक सिंगल की जरूरत थी. वे डॉट बॉल खेल बैठे.

Credit: Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media

    2007 के विश्व कप सेमीफाइनल में, ग्लेन मैकग्राथ ने शुरुआती झटके देकर दक्षिण अफ्रीका के सपनों को पहले दस ओवरों में ही खत्म कर दिया। ये टीम 149 रन पर आउट हो गई.

Credit: Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media

    2011 के क्वार्टर फाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ, प्रोटियाज जीत के लिए 222 रनों का पीछा करते हुए 108 रन पर 2 विकेट पर अच्छी स्थिति में थे.

Credit: Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media

    फिर जैकब ओरम के चार विकेट लिए जिससे साउथ अफ्रीका को फिर 49 रनों से हार का सामना करना पड़ा और अंततः टूर्नामेंट से बाहर हो गए.

Credit: Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media

    प्रोटियाज के लिए एक और दिल टूटने का क्षण 2015 के विश्व कप सेमीफाइनल में हुआ था. तब दक्षिण अफ्रीकी फील्डिंग यूनिट ने महत्वपूर्ण कैच छोड़े. जिससे न्यूजीलैंड ने 298 रन का टारगेट 43 ओवर में हासिल कर लिया.

Credit: Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media___Social Media
More Stories