समाजवाद के पुरोधा को मोदी सरकार ने दिया देश का सर्वोच्च सम्मान


2024/01/23 21:25:21 IST

समाजवाद के पुरोधा

    कर्पूरी ठाकूर को समाजवाद के पुरोधा के तौर पर जाना जाता है.

OBC आरक्षण

    बिहार के मुख्यमंत्री रहते हुए कर्पूरी ने साल 1978 में 12% OBC आरक्षण देने का फैसला किया.

मुंगेरी लाल की रिपोर्ट

    कर्पूरी ने मुंगेरी लाल की रिपोर्ट के आधार पर ये फैसला तब लिया जब देश में OBC आरक्षण की बात शुरू हो रही थी.

सरकारी सेवाओं में आरक्षण

    बिहार पहला राज्य बना जहां पर SC-ST के साथ OBC के लिए सरकारी सेवाओं में आरक्षण शुरू किया गया.

दो बार बिहार के मुख्यमंत्री

    कर्पूरी ठाकुर दो बार बिहार के मुख्यमंत्री और महामाया प्रसाद सिन्हा की सरकार में उपमुख्यमंत्री भी रहे.

मुफ्त शिक्षा

    उपमुख्यमंत्री रहने के दौरान उन्होंने बिहार में शिक्षा को पूरी तरह से मुफ्त कर दिया.

26 महीने जेल

    आजादी के दौरान भारत छोड़ो आन्दोलन में कर्पूरी ठाकुर 26 महीने जेल में भी रहे.

सर्वोच्च सम्मान 'भारत रत्न'

    अब केंद्र की मोदी सरकार ने कर्पूरी ठाकुर के जन्म जयंती (24 जनवरी) की पूर्व संध्या पर देश के सर्वोच्च सम्मान 'भारत रत्न' से नवाजा है.

More Stories