भगवद गीता के श्लोक, भगवान कृष्ण की पेंटिंग... देखें सुदर्शन सेतु की तस्वीरें


2024/02/25 09:37:38 IST

पीएम मोदी ने किया उद्घाटन

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश के सबसे लंबे केबल ब्रिज 'सुर्दशन सेतु' का उद्घाटन किया. इसे सिग्नेचर ब्रिज के नाम से भी जाना जाता है.

Credit: Social Media

ओखा से बेट द्वारका को जोड़ेगा ब्रिज

    सुदर्शन सेतु यानी सिग्नेचर ब्रिज बेट द्वारका द्वीप को ओखा से जोड़ेगा. 2.32 किमी लंबा पुल, जो गुजरात के सौराष्ट्र तट के साथ चलने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) 51 का हिस्सा है.

Credit: Social Media

गुजरात का पहला समुद्री लिंक

    गुजरात का पहला समुद्री लिंक देवभूमि द्वारका जिले के ओखा शहर और कच्छ की खाड़ी में बेट द्वारका द्वीप को जोड़ने वाला ये पुल कुशल इंजीनियरिंग का कमाल है.

Credit: Social Media

32 खंभे, 22 मीटर ऊंचे दो टावर

    सुदर्शन सेतु में 31 खंभे हैं, जबकि 22 मीटर ऊंचे दो टावर भी लगे हैं, जो समुद्र की सतह से लगभग 18 मीटर ऊपर उठे हुए हैं. इससे मछली पकड़ने वाली नौकाओं की आवाजाही में आसानी होगी.

Credit: Social Media

ब्रिज के दोनों ओर पैदल मार्ग

    27 मीटर चौड़े कैरिजवे के अलावा, सिग्नेचर ब्रिज के दोनों ओर पैदल मार्ग भी हैं, जिनके स्तंभों को भगवद गीता के श्लोकों और भगवान कृष्ण की छवियों से सजाया गया है.

Credit: Social Media

सौर पैनल से सुसज्जित है ब्रिज

    गुजरात सरकार के अधिकारियों ने कहा कि ये रास्ते सौर पैनलों से सुसज्जित हैं, जिनकी कुल क्षमता 1 मेगावाट बिजली पैदा करने की है.

Credit: Social Media

978 करोड़ की लागत से बना है ब्रिज

    चार लेन वाले पुल का निर्माण 978 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है. वर्तमान में, बेट द्वारका और ओखा के बीच परिवहन का एकमात्र साधन द्वीप से ओखा तक चलने वाली नौका नाव सेवा है.

Credit: Social Media

हर मौसम में मिलेगी कनेक्टिविटी

    सुदर्शन सेतु के जरिए पहली बार बेट द्वारका द्वीप को हर मौसम में सड़क कनेक्टिविटी मिलेगी.ये द्वीप हिंदुओं के लिए एक प्रमुख तीर्थ स्थल है, जहां श्री द्वारकाधीश मुख्य मंदिर, भगवान कृष्ण को समर्पित एक मंदिर है.

Credit: Social Media
More Stories