भारत के ऐसे मंदिर जहां प्रसाद में मिलता है मीट


चढ़ता है मांस-मछली का प्रसाद

    देश में कुछ ऐसे मंदिर भी हैं, जहां पर भगवान को मांस और मछली प्रसाद के रूप में चढ़ाया जाता है.

Credit: pexels

तारापीठ मंदिर

    बंगाल के मंदिर में मछली और मीट प्रसाद के रूप में मिलता है.

Credit: google

विमला मंदिर

    उड़ीसा में स्थित इस मंदिर में माता विमला का पूजन किया जाता है. इस मंदिर में पूजा के दौरान मार्कंडा मंदिर के तालाब से मछली पकड़कर और उसे पकाकर देवी को अर्पित किया जाता है. इसे 'बिमला परुसा' के नाम से जाना जाता है.

Credit: google

कामख्या मंदिर

    असम के इस मंदिर में शाकाहारी और मांसाहारी दोनों भोग चढ़ते हैं. नॉनवेज भोग में मछली और बकरे का मांस बनाकर भोग लगता है. वहीं, शाकाहारी खाने में प्याज और लहसुन का भी प्रयोग नहीं होता है.

Credit: google

मुनियांडी स्वामी मंदिर

    वडक्कमपट्टी तमिलनाडु के मदुरै जिले में स्थित भगवान मुनियांडी स्वामी को बिरयानी का भोग लगता है.

Credit: google

कालीघाट कोलकाता

    यहां पर देवी के लिए बनाया जाने वाला भोग शाकाहारी होता है,लेकिन यहां पशु की बलि दी जाती है और बाद में उसके मांस को पकाकर भक्तों में प्रसाद के तौर पर बांटा जाता है.

Credit: google

तरकुलहा देवी मंदिर

    उत्तर प्रदेश के गोरखपुर स्थित तरकुलहा देवी मंदिर में बकरे का मांस प्रसाद के रूप में चढ़ता है.

Credit: google

परासिनिक करवु मंदिर

    केरल के इस मंदिर में मछली और ताड़ी चढ़ाया जाता है.

Credit: pexels
More Stories