share--v1

क्या डायनासोर के साथ रहते थे हमारे पूर्वज? रिसर्च में किए गए हैरान कर देने वाले खुलासे

Our ancestors live with Dinosaurs : ताजा रिसर्च में एक नया खुलासा किया गया है. इस रिसर्च के मुताबिक हमारे पूर्वज डायनासोर के साथ रहा करते थे. इस रिसर्च में और भी कई खुलासे किए गए हैं.

auth-image
Abhiranjan Kumar

Our ancestors live with Dinosaurs : हम इंसानों की उत्पत्ति कैसे हुई, कब हुई, किस तरह से हुई. इन सभी प्रश्नों पर कई शोध किए गए हैं. और अभी भी इन मुद्दों पर रिसर्च चल रही है. इन सभी रिसर्च में तरह -तरह के खुलासे भी किए गए हैं. ज्यादातर रिसर्च में यही खुलासा किया गया है कि हम इंसानों की उत्पत्ति कहीं न कहीं डायनासोर के विलुप्‍त होने से हुई है. लेकिन एक नई ताजा रिसर्च में हैरान करने वाले खुलासे किए गए हैं. रिसर्च में हुए खुलासों को पढ़कर आप हैरान हो सकते हैं.

रिसर्च में कौन से खुलासे हुए?

हाल ही में इंसानों की उत्पत्ति को लेकर एक रिसर्च की गई. इस रिसर्च में कई सारे दावे किए गए हैं. इस नई रिसर्च में ये दावा किया गया है कि हम इंसानों की उत्तपत्ति के पुख्ता सबूत मिले हैं. इसमें कहा गया है कि डायनासोर के साथ हमारे पूर्वज रहा करते थे. डायनासोर के विलुप्त होने से पहले हमारे पूर्वज उनके साथ रहा करते थे.  

रिसर्च में किए गए दावों को लेकर हमेशा बहस छिड़ी रहती हैं. कहा जाता है कि प्लेसेंटल स्तनधारी यानी जिस समूह में मनुष्य, कुत्ते और चमगादड़ शामिल हैं. इनकी उत्पत्ति पहली बार कब हुई है. इसे लेकर अब तक हुई रिसर्च में तरह-तरह के खुलासे किए गए हैं.

कुछ रिसर्च में कहा गया है कि क्षुद्रग्रह के पृथ्वी से टकराने से पहले प्लेसेंटल स्तनधारी (हमारे पूर्वज भी) जानवर डायनासोर के साथ रहा करते थे. वहीं, अन्य रिसर्च दावा करती हैं कि डायनासोर के विलुप्त होने के बाद ही हमारे पूर्वजों की उत्पत्ति हुई थी. नए शोध में कहा गया है कि सरीसृपों के विलुप्त होने से पहले इंसान, कुत्‍ते और चमगादड़ के पूर्वज डायनासोर के साथ कुछ समय साथ रहे थे.

इस तरह से की गई है रिसर्च

करंट बायोलॉजी जर्नल में इस शोध को प्रकाशित किया गया है. पुराजीवविज्ञानियों की एक टीम ने जीवाश्म रिकॉर्ड के सांख्यिकीय विश्लेषण का उपयोग करके यह निर्धारित किया कि प्लेसेंटल स्तनधारियों की उत्पत्ति डायनासोर के विलुप्त होने से पहले ही हुई थी.

ब्रिस्टल के स्कूल ऑफ अर्थ साइंसेज के प्रमुख लेखक एमिली कार्लिस्ले ने रिसर्च के बारे में बताते हुए कहा कि हमने प्लेसेंटल स्तनधारियों के हजारों जीवाश्मों को एक साथ निकाला फिर विभिन्न समूहों की उत्पत्ति और विलुप्त होने के पैटर्न को  समझने की कोशिश की. इसमें हमे साफ पता चला कि हमारे पूर्वज धरती के महाविनाश से पहले मौजूद थे. 

First Published : 29 June 2023, 09:45 PM IST