menu-icon
India Daily
share--v1

कैसे काम करता है भारत का शेयर मार्केट? समझ लीजिए कहां से होती है निवेशकों की कमाई

शेयर मार्केट के बारे में आप हमेशा टीवी, अखबार और मोबाइल पर ही सुनते हैं. लोग कहते हैं कि शेयर मार्केट में पैसे लगाओ और कमाई करो. आइए आपको आसान भाषा में समझाते हैं कि कैसे निवेशकों को शेयर लगाने के बाद लाभ मिलता है.

auth-image
India Daily Live
Share Market

मान लीजिए कि आपके पास एक मिठाई की दुकान है, जो अच्छा चल रही है लेकिन आप इसे और भी बड़ा बनाना चाहते हैं. दुकान को बढ़ाने के लिए आपके पास पैसे की कमी है. आप फैसला करते हैं कि अपनी दुकान में किसी और को भी पार्टनर बना लिया जाए. उसके बदले में उसे निवेश करने को कहते हैं. आपको भरोसा है कि आपकी दुकान चल निकलेगी तब आप उस व्यक्ति को, उसके शेयर के हिसाब से हिस्सेदारी देंगे. 

जो आदमी आपकी दुकान के शेयर को खरीदता है वह आपके दुकान के उत्पादों का अंशदार बन जाता है. शेयर बाजार की दुनिया में इसे शेयर होल्डर कहते हैं. जैसे ही दुकान चल पड़ती है, बाजार में अच्छा प्रदर्शन करने लगती है, दुकान के शेयरों में भी उछाल आने लगता है. अगर दुकान का प्रदर्शन अच्छा नहीं, बिक्री नहीं हो रही है तो मालिक को घाटा होगा. जाहिर सी बात है कि इसकी वजह से जिसने निवेश किया है उसे भी घाटा होगा.

ऐसे ही शेयर को बेचने और खरीदने के लिए एक तय मार्केट होता है. इसे शेयर मार्केट कहते हैं. शेयर मार्केट भी कुछ इसी तरह से काम करता है. कंपनिया  शेयर जारी करती हैं, जिन्हें निवेशक खरीदते  हैं. अगर कंपनी अच्छा प्रदर्शन करती है, तो शेयर की कीमत बढ़ जाती है और निवेशकों को फायदा होता है.

अगर कंपनी का प्रदर्शन खराब होता है तो शेयर की कीमत गिर जाती है और निवेशकों को नुकसान हो जाता है. लोग शेयर मार्केट में  पैसा लगाकर अपनी आमदनी  बढ़ाते हैं. जब मार्केट में मुद्रास्फिति बढ़ती है तो वस्तुओं की कीमतें बढ़ने लगती हैं. ऐसे में निवेश जरूरी हो जाता है, जिससे बाजार में बैलेंस बना रहा.

कभी-कभी शेयर बाजार को स्टॉक मार्केट भी कहते हैं. इन दोनों शब्दों को एक दुसरे की जगह इस्तेमाल किया जाता है. इसमें थोडा सा अन्तर भी होता है. स्टॉक का मतलब होता है किसी कंपनी का संपूर्ण हिस्सा. वहीं शेयर का मतलब होता है किसी कंपनी में व्यक्तिगत हिस्सेदारी. 

मान लीजिए कोई कंपनी जिसकी किमत 100 रुपये है और इसने 10-10 रुपये के शेयर के हिसाब से निवेशकों को मौका दिया है. उस कंपनी का कुल स्टॉक 100 रुपये है, जो उसके स्वामित्व को दिखाता है, वहीं शेयर उस कंपनी के एक हिस्से को दर्शाता है. अगर आपके पास उस कंपनी का 10 रुपये है तो इसका मतलब है आप उस कंपनी के 10 प्रतिशत हिस्से के मालिक हैं.
 
शेयर बाजार कैसे काम करता है?
भारत में शेयर बाजार को भारतीय प्रतिभूति और विनियामक बोर्ड (SEBI) की ओर से संचालित और नियंत्रित किया जाता है. भारत में मुख्य रूप से दो स्टॉक एक्सचेंज है. पहला बॉम्बे स्टॉक एक्चेंज है, जिसे भारत के सबसे पुराने स्टॉक एक्सचेंज का दर्जा मिला है. इसकी स्थापना  9 जुलाई 1875 में हुई थी. 

दूसरा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज है. यह भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है. भारत का शेयर बाजार एक तरह का वित्तीय बाजार है, जहां इक्विटी , डेरिवेटिव, बॉन्ड जैसे वित्तीय माध्यमों को खरीदा और बेचा जाता है. यह डिमांड और सप्लाई पर निर्भर करता है.

शेयर बाजार से निवेशक कमाई कैसे करते हैं?
शेयर बाजार से निवेशक कई तरह से कमाई करते हैं, आइए समझते हैं.

1. पूंजीगत लाभ:  इसमें जब  किसी निवेशक के शेयर की कीमत उसकी खरीद के मूल्य से ज्यादा हो जाती है, जिसे निवेशक बेच देता है. इससे जो लाभ मिलता है उसे पूंजीगत लाभ कहते हैं. 

2. लाभांश: इसके तहत किसी कंपनी के भागीदारों का वह अंश जिसे कोई कंपनी लाभ कमाने के बाद देती है. 

3. राइट्स इश्यू: कभी-कभी कुछ कंपनियां अपने शेयर धारकों को कम कीमत पर नए शेयर खरीदने का अवसर देती हैं. इसे राइट्स इश्यू कहा जाता है. यह निवेशकों को ज्यादा शेयर खरीदने और अपनी भागीदारी बढ़ाने का मौका देता है. 

4. यह भी ध्यान देना जरूरी है कि शेयर बाजार में निवेश करना थोड़ा जोखिम भरा होता है क्योंकि जब शेयर की कीमते गिरती हैं तो निवेशकों को घाटा होता है.