menu-icon
India Daily
share--v1

ना 22, ना 24, आखिर ये 9 कैरेट वाला सोना क्या है? बढ़ती कीमतों के बीच क्यों शुरू हुई इसकी चर्चा

9 Carat Gold: सोने की कीमतें लगातार बढ़ने की वजह से अचानक ही 9 कैरेट गोल्ड से बनने वाले गहनों की चर्चा होने लगी है. BIS से भी मांग की गई है कि इसके लिए यूनीक आईडी नंबर जारी किए जाएं.

auth-image
India Daily Live
Gold
Courtesy: Social Media

बीते कुछ दिनों में सोने और चांदी के दामों में काफी बढ़त देखने को मिली है. शायद इसी वजह से सोना खरीदारों की दूर होता जा रहा है. इन सारे पहलुओं को देखते हुए 9 कैरेट हॉलमार्किंग वाली ज्वैलरी की डिमांड की जा रही है. फिलहाल भारत में सबसे ज्यादा डिमांड 20, 22 और 24 कैरेट गोल्ड से बनने वाले गहनों की होती है. वैसे भी भारत में सोने के गहनों को लेकर लोगों का आकर्षण काफी ज्यादा है जिसके चलते हर साल भारी मात्रा में सोने का आयात दूसरे देशों से भी किया जाता है. सोना एक ऐसी धातु है जिसकी कीमतें हर साल बढ़ती जा रही हैं और इसमें निवेश करने वालों को अच्छा-खासा मुनाफा भी मिल रहा है.

सोने और चांदी की कीमत को इतना बढ़ता देखकर 9 कैरेट हॉलमार्किंग ज्वैलरी की डिमांड की जाने लगी है. ट्रेडर्स ने भी ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड्स (BIS) से अपील की है. ट्रेडर्स ने हॉलमार्किंग को आगे बढ़ाने के साथ 9 कैरेट ज्वैलरी की यूनिक आइडेंटिफिकेशन नंबर शुरू करने का सुझाव दिया है. 9 कैरेट गोल्ड 24 कैरेट गोल्ड से कितना अलग होगा,  क्या 9 कैरेट हॉलमार्किंग की मंजूरी मिलेगी? अगर ऐसा होगा तो 10 ग्राम सोना कितने रुपये में मिलेगा. आइए सबकुछ जानते हैं.

24 कैरेट से कितना अलग है 8 कैरेट वाला सोना?

बता दें कि सोने के मामले में कैरेट का प्रयोग उसकी शुद्धता की पहचान के लिए किया जाता है. 24 कैरेट की हॉलमार्किंग का मतलब 99.9 प्रतिशत शुद्ध सोना होता है. 22 कैरेट सोने की शुद्धता का स्तर 91.7 फीसदी होता है जबकि 18 कैरेट सोने में 75 फीसदी सोने की शुद्धता होती है. इसी तरह 14 कैरेट सोना 58.3 फीसदी तो 12 कैरेट 50 फीसदी शुद्ध होता है. 10 कैरेट में सोने की शुद्धता 41.7 फीसदी और नौ कैरेट में सिर्फ 37.5 फीसदी सोने की शुद्धता है. इसमें भी चांदी, तांबा, जिंक और निकल जैसी धातुओं का मिश्रण किया जाता है.

क्या मिल सकती है 9 कैरेट हॉलमार्किंग की मंजूरी?

इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन (IBJA) के प्रतिनिधियों ने मंगलवार को BIS अधिकारियों से मुलाकात की थी. इस दौरान 9 कैरेट सोने के लिए हॉलमार्किंग और HUID नंबर के महत्वपूर्ण मामले पर चर्चा हुई थी. ET की रिपोर्ट के मुताबिक, IBJA के राष्ट्रीय सचिव सुरेंद्र मेहता ने उपभोक्ताओं पर बढ़ती कीमतों के प्रभाव पर जोर देते हुए कहा, 'कीमतें लगातार बढ़ रही हैं. उपभोक्ता इसका बोझ महसूस कर रहे हैं. इसे ध्यान में रखते हुए हमने नौ कैरेट के आभूषणों के लिए हॉलमार्किंग की अनुमति देने की संभावना पर चर्चा करने के लिए अधिकारियों से मुलाकात की.'

ऐसे में यह देखना महत्वपूर्ण होगा कि क्या भारतीय रिजर्व बैंक सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की कीमत निर्धारित करने में IBJA के योगदान को स्वीकार करता है.
 
क्या होगी 9 कैरेट गोल्ड की कीमत?

9 कैरेट सोने की कीमत अभी करीब 28,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के आसपास है. इस पर तीन प्रतिशत अतिरिक्त जीएसटी भी लगता है. अगर नौ कैरेट सोने के लिए हॉलमार्किंग को मंजूरी मिल जाती है तो खरीदार अपने बजट के भीतर रहते हुए बड़े आभूषण खरीद सकेंगे.