menu-icon
India Daily
share--v1

ब्रेस्ट मिल्क बेचने पर सख्त कानून, फिर भी यहां बनाई गई थी आइसक्रीम!

Breast Milk Facts: कई देशों में ब्रेस्ट मिल्क बेचने और खरीदने दोनों पर पाबंदी है. ब्रेस्ट मिल्क से आईसक्रीम बनाने को लेकर भी कई प्रकार के दावे किए गए हैं.

auth-image
Gyanendra Tiwari
ब्रेस्ट मिल्क बेचने पर सख्त कानून, फिर भी यहां बनाई गई थी आइसक्रीम!

नई दिल्ली. Breast Milk Facts: मां का दूध बच्चे के लिए बहुत फायदेमंद होता है लेकिन आज कल के लाइफस्टाइल के चलते औरते अपने बच्चों का काऊ मिल्क या फिर दूसरे पशु का दूध पिलाती है. इससे बच्चे के स्वास्थय पर बुरा असर पड़ता है. ब्रेस्ट मिल्क के बेचने और खरीदने को लेकर हर देश में अलग-अलग नियम और कानून है. इसे लेकर इंटरनेट पर कई तरह की बातें सुनने को मिलती है. ब्रेस्ट मिल्क से आइसक्रीम बनाने की भी बात कही जाती है.

भारत में बैन है ब्रेस्ट मिल्क

कई जगह ब्रेस्ट मिल्क का काला व्यापार चलता है. भारत में ना तो इसे बेचा जा सकता है और ना ही इसे खरीदा जा सकता है. ब्रेस्ट मिल्क के नाम पर  मार्केट में आजकल बेबी मिल्क के कई प्रोडक्ट्स उपलब्ध हैं. भारत सरकार ने एक डेयरी का लाइसेंस इसलिए रद्द कर दिया क्योंकि डेयरी महंगे दामों में ब्रेस्ट मिल्क बेचा करती थी. 

भारत में कई ऐसी संस्थाएं भी हैं जो उन बच्चों को ब्रेस्ट मिल्क उपलब्ध कराती हैं, जिन्हें ब्रेस्ट मिल्क नहीं मिलता. भारत में FSS Act 2006 के तहत कोई भी ना तो ब्रेस्ट मिल्क खरीद सकता है और ना ही बेच सकता है.

ब्रेस्ट मिल्क से बनाई गई आइसक्रीम
2011 में एक आइसक्रीम तब चर्चा में आई जब इसे बनाने वाले ने दावा किया कि इसे ब्रेस्ट मिल्क से बनाया गया है. इसे लेकर खूब विवाद भी हुआ था. लंदन की एक आइसक्रीम पार्लर ने ब्रेस्ट मिल्क से बनी आईसक्रीम बनाकर बेचने का दावा किया था. ब्रेस्ट मिल्क से बनी इस आइसक्रीम का नाम बेबी गागा (Baby Gaga) दिया गया था.

यह भी पढ़ें- खुलासा! आखिर क्यों कम हो गई है पक्षियों की संख्या. रिसर्च में पता चला कारण


इसे बनाने के पीछे तर्क दिया गया था  कि ब्रेस्ट मिल्क कितना स्वादिष्ट और हेल्दी है इसका एहसास हम उन नई औरतों को दिलाना चाहते हैं जो पहली बार मां बनती हैं लेकिन वो अपने बच्चों को ब्रेस्ट मिल्क फीड नहीं कराती हैं.


वर्तमान में ब्रेस्ट मिल्क की मांग तेजी के साथ बढ़ रही है. नई -नई मां बनी महिलाएं अपने बच्चों को स्तनपान कराने से संकोच करती हैं. अपने बच्चों को वो काऊ मिल्क पिलाती हैं या फिर मार्केट से दूसरा दूध खरीदकर उन्हें पिलाती हैं. इसी वजह से ब्रेस्ट मिल्क के खरीदने और बेचने का काला कारोबर चलाया कई देशों में फल -फूल रहा है.

यह भी पढ़ें- पशुपालन के लिए सरकार दे रही है लाखों रुपए का लोन, जानिए कैसे उठाएं इस योजना का लाभ