menu-icon
India Daily
share--v1

भारत के इस गांव में होती है चमगादड़ की पूजा, वजह जान आप हो जाएंगे हैरान

Bat Worshipped: जब पूरी दुनिया कोरोना 19 महामारी से जूझ रही थी तो विश्व के प्रति भारत ने ही आस्था दिखाई थी. हमारे देश के लोग कोरोना को भगाने के लिए पूजा-पाठ और यज्ञ कर रहे थे. कहा जा रहा था कि कोरोना वायरस चमगादड़ों से फैला है.

auth-image
Gyanendra Tiwari
भारत के इस गांव में होती है चमगादड़ की पूजा, वजह जान आप हो जाएंगे हैरान

नई दिल्ली. भारत में अनेक धर्म के लोग रहते हैं. यहां इतनी विविधता है कि आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे. शायद यही भारत की खूबसूरती है. जब भी कोई आपदा आती है तो हम अपने आराध्य के शरण में जाते है. जब पूरी दुनिया कोरोना 19 महामारी से जूझ रही थी तो हमारे देश के लोग कोरोना को भगाने के लिए पूजा-पाठ और यज्ञ कर रहे थे. कहा जा रहा था कि कोरोना वायरस चमगादड़ों से फैला है. इसीलिए इंसान ऐसे जानवरों से दूरी बनाकर रख रहे थे लेकिन भारत के एक गांव में लोग चमगादड़ों की पूजा करते है. आप थोड़ा अचंभित जरूर हुए होंगे लेकिन सच में चमगादड़ों की पूजा की जाती है. चलिए आज आपको उस गांव और पूजा करने के पीछे की कहानी बताते हैं.

यह भी पढ़ें- Internet Shutdown: इस नियम के तहत बंद किया जाता है इंटरनेट, जानिए अब तक कितनी बार नेट पर लगी है पाबंदी

कहां स्थिति है ये गांव
दरअसल, जिस गांव की बात हम लोग कर रहे हैं वो भारत के बिहार राज्य में स्थित है. वैशाली जिले के सरसई गांव अपने आप में काफी प्रसिद्ध है. इस गांव को चमगादड़ों के गांव से ज्यादा और उसके नाम से कम जाना जाता है. यह गांव टूरिस्ट के लिहाज से भी काफी प्रसिद्ध है. बहुत से लोग इस गांव में घूमने आते हैं ताकि वो जान सकें कि कैसे यहां चमगादड़ रहते हैं.


क्यों की जाती है चमगादड़ की पूजा

जैसा कि पूरी दुनिया कहती है कि कोरोना महामारी फैलने के पीछे का कारण चमगादड़ ही हैं. उन्हीं की वजह से कोविड-19 फैला है लेकिन बिहार के वैशाली जिले के सरसई गांव में उन्हें पूजा जाता है.

इस गांव के लोग चमगादड़ों की पूजा करना शुभ मानते हैं. उनका मानना है कि पूजा करने से कोई भी विपत्ति नहीं आती है. इसलिए इस गांव के लोग चमगादड़ों की पूजा करते हैं.

चमगादड़ों को लेकर यहां कई तरह की बाते कही जाती है. कहा जाता है कि अगर कोई अंजान आदमी इस गांव में आता है तो चमगादड़ आवाज करने लगते है. रात को जब भी इस गांव को कोई आदमी आता है तो चमगादड़ बिल्कुल भी शोर नहीं करते. ऐसा लगता है कि वो गांव वालों के सुगंध से भली भांति परिचित हैं. वहीं, कोई दूसरा व्यक्ति अगर गांव में एंट्री करता है तो चमगादड़ चिल्लाने लगते हैं.

यह भी पढ़ें- अगर आपके पास है ये फोन तो हो जाएं सावधान, इससे निकलने वाले रेडिएशन से हो सकता है कैंसर