menu-icon
India Daily
share--v1

फ्लिपकार्ट के को-फाउंडर बिन्नी बंसल लॉन्च करेंगे अपना ग्लोबल AI स्टार्टअप, TCS और Infosys को ऐसे देंगे टक्कर

AI startup: बिलेनियर बिन्नी बंसल ग्लोबल मार्केट के लिए एआई लॉन्च करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. उनकी नजर ग्लोबल मार्केट पर है.

auth-image
Gyanendra Tiwari
फ्लिपकार्ट के को-फाउंडर बिन्नी बंसल लॉन्च करेंगे अपना ग्लोबल AI स्टार्टअप, TCS और Infosys को ऐसे देंगे टक्कर

Flipkart Co-Founder Binni Bansal: एआई की दुनिया में बड़े-बड़े दिग्गज प्रवेश कर रहे हैं. चैटजीपीटी के आने के बाद एआई के मार्केट में बूम आई है. अब इसी बूम का हिस्सा बनने जा रहे हैं फ्लिपकार्ट के को-फाउंडर रहे बिन्नी बंसल. बिलेनियर बिन्नी ग्लोबल मार्केट के लिए एआई लॉन्च करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. वो इस स्टार्टअप के जरिए ग्लोबल लेवल पर क्लाइंट्स को TCS और Infosys की तरह एआई की सर्विस मुहैया कराना चाह रहे हैं.

बना ली है 15 लोगों की टीम  

Bloomberg की रिपोर्ट की मानें तो बिन्नी बंसल ने इसके लिए 15 अनुभवी एआई वैज्ञानिकों की टीम भी बना ली है.  जल्द ही वो बड़ी टीम बनाएंगे.

प्राइमरी ऑपरेशन कंपनी बेंगलुरु से ही होगा. जबकि इसका हेड क्वार्टर सिंगापुर में होगा. इस स्टार्टअप को बिन्नी बंसल अमेरिका तक लेकर जाना चाहते हैं.

बिन्नी बंसल अभी गुचुप तरीके से काम कर रहे हैं. अपने स्टार्टअप के बारे में शायद आने वाले महीनों में वो लोगों को जानकारी दें  कहा जा रहा है कि उनके स्टार्टअप के प्रोडक्ट और सर्विसेज अगले साल की पहली छमाही के बाद शुरू हो सकती हैं.

भारतीयों युवाओं को देंगे मौका  

बिन्नी बंसल अंग्रेजी बोलने वाले भारतीयों युवाओं को के साथ काम करके एआई की दुनिया में उन्हें और माहिर बनाना चाहते हैं. हालांकि, अभी वह अपने स्टार्टअप के बारे में सोच ही रहे हैं. कहां जा रहा है कि शुरुआत में वो लीगल और ई-कॉमर्स सेक्टर के क्लाइंट्स के लिए काम करेंगे.  इसके साथ ही वो फाइनेंशियल, डाटा साइंस और एनालिटिक्स की ओर ध्यान केंद्रित किए हुए हैं.

भारतीय टैलेंट को प्राथमिकता 

रिपोर्ट में कहा गया है कि बिन्नी बंसल अपने एआई स्टार्टअप में छोटे शहरों के भारतीय टैलेंट को प्राथमिकता देंगे. क्योंकि भारत के छोटो शहरों में कॉस्ट ऑफ लिविंग तुलनात्मक रूप से कम है.

चैटजीपीटी के आने के बाद बड़ी बड़ी कंपनियां उसकी सर्विसेज इस्तेमाल कर रही है. चैटजीपीटी इंसानों की तरह लिखना, एक भाषा को अनेकों भाषा में अनुवादित, और यूजर्स को उनकी भाषा में जवाब देने जैसी सर्विस मुहैया कराता है.

यह भी पढ़ें-  WhatsApp पर दिखेगा ऐड, मेटा ने कर ली है पूरी प्लानिंग, होगी मोटी कमाई!