share--v1

Year Ender 2023: भारतीय स्टार्टअप्स के लिए फिसड्डी रहा साल 2023, फंडिंग में आई 73 फीसदी तक की गिरावट   

Year Ender 2023: ये साल भारतीय स्टार्टअप्स के लिए फिसड्डी रहा. पिछले 5 सालों में भारतीय स्टार्टअप्स के लिए 2023 सबसे खतरनाक रहा. 

auth-image
Gyanendra Tiwari
फॉलो करें:

हाइलाइट्स

  • भारतीय स्टार्टअप्स के लिए फिसड्डी रहा 2023
  • फंडिंग में आई 72 फीसदी तक की गिरावट

Year Ender 2023: 21वीं सदी का 23वां साल कुछ ही दिनों में गुजर जाएगा. गुजरा हुआ पल इतिहास पन्नों में अमिट अक्षरों में हमेशा-हमेशा के लिए दर्ज हो जाएगा. ये साल किसी की अच्छी यादों का कारण बना तो किसी के जीवन में कठिनाइयों के बोझ का कारण. सिनेमा, राजनीति, खेल, विज्ञान, शोध और बिजनेस हर एक क्षेत्र के लिए साल 2023 किसी न किसी मामले में खास रहा है. बात अगर स्टार्टअप्स की करें तो ये साल भारतीय स्टार्टअप्स के लिए फिसड्डी रहा. पिछले 5 सालों में भारतीय स्टार्टअप्स के लिए 2023 सबसे खतरनाक रहा. 

72 फसदी तक की गिरावट

इस साल अब तक भारतीय स्टार्टअप्स ने  7 अरब डॉलर की फंडिंग जुटा पाए हैं. पिछले पांच सालों में ये आंकड़ा 72 फसदी तक गिर गया है. आसान भाषा में समझे तो मान लीजिए पिछले साल भारतीय स्टार्टअप्स ने 100 रुपए की फंडिंग जुटाई था. लेकिन इस बार वह सिर्फ 28 रुपए ही जुटा पाया. यानी 72 फीसदी तक की गिरावट आई है.

यह आंकड़े स्टार्टअप्स के डेटा दिखाने वाले प्लेटफॉर्म Tracxn की Geo Annual Report India Tech 2023 में जारी किए गए हैं. साल 2023 के आंकड़े भारतीय स्टार्टअप्स को फंडिंग जुटाने में बाधा भी डाल सकते हैं. 

2016 के बाद दिसंबर तिमाही में सबसे कम फंडिंग

साल के दिसंबर तिमाही की बात करें तो इस साल दिसंबर तिमाही में भारतीय स्टार्टअप्स ने 957 मिलयन डॉलर की फंडिंग जुटाई. 2016 के बाद दिसंबर तिमाही में फंडिंग के मामले में इस साल सबसे कम फंडिंग हुई है.  

स्टार्टअप्स के मामले में भारत अब की रैंकिंग कम हुई है. भारतीय स्टार्टअप्स चौथे नंबर से गिरकर पांचवे नंबर पर आ गया है. शहरों की बात करें तो इस बार टॉप फंडिंग शहरों में बेंगलुरु, मुंबई और दिल्ली-एनसीआर रहें. 

इस साल बने 2 यूनिकार्न

फिनटेक स्टार्टअप्स ने इस साल इस साल करीब 2.1 अरब डॉलर की फंडिंग जुटाई है. पिछले ये आंकड़ा दोगुने से ज्यादा था. 2022 में  फिनटेक स्टार्टअप्स ने 5.8 अरब डॉलर की फंडिंग जुटाई थी. इस साल  फिनटेक स्टार्टअप्स  को मिली फंडिंग में 38 फीसदी फंडिंग सिर्फ फोनपे ने हासिल की. इस साल भारत के दो स्टार्टअप्स  Incred और Zepto  यूनिकॉर्न बनें. यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स वो होते हैं, जिनकी वैल्यूएशन 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर होती है.

Also Read

First Published : 09 December 2023, 01:05 PM IST