menu-icon
India Daily
share--v1

सरकारी वेबसाइट्स को हैक करना है बेहद आसान, एक चुटकी में ऐसे हो जाता है काम!

Government Websites Hack: क्या आप जानते हैं कि सरकारी वेबसाइट्स को हैक क्यों कर लिया जाता है और हैकर्स के लिए यह काम इतना आसान क्यों है? चलिए 5 प्वाइंट्स में जाने सबकुछ.

auth-image
India Daily Live
Government Websites Hack

Government Websites Hack: हम पिछले काफी समय से देखते आए हैं कि सरकारी वेबसाइट्स पर बहुत ज्यादा साइबर अटैक होने लगे हैं. क्या आपने कभी ये जानने की कोशिश की है कि आखिर ऐसा कैसे हो जाता है? साइबर अटैकर्स सिर्फ आम जनता पर ही नहीं बल्कि सरकार पर भी पैनी नजर रखती हैं और जैसे ही उन्हें एक लूपहोल मिल जाता है, अटैक कर देते हैं. सरकारी वेबसाइट्स में भी ऐसे ही लूपहोल होते हैं जिनके जरिए ही हैकर्स उन्हें हैक कर लेते हैं. 

ऐसे में यह जानना भी जरूरी हो जाता है कि आखिर कैसे हैकर्स किसी सरकारी वेबसाइट को हैक करते हैं? इसके कई कारण हो सकते हैं. यहां हम आपको ऐसे ही 5 कारणों के बारे में बता रहे हैं जो सरकारी वेबसाइट्स को हैक करने के लिए जिम्मेदार हैं. चलिए जानते हैं इनके बारे में. 

सरकारी वेबसाइट्स को हैक करना इतना आसान क्यों है?

  • हैकर्स सरकारी वेबसाइट्स को इसलिए अपना निशाना बनाते हैं क्योंकि इसमें कई सेंसिटिव जानकारी मौजूद होती हैं. यही कारण है सरकारी वेबसाइट हैकर्स के निशाने पर हमेशा बनी रहती है. इन वेबसाइट्स को हैकर्स के लिए गोल्डमाइन भी कहा जाता है. 

  • सरकारी वेबसाइट्स कई अलग-अलग इंडस्ट्रीज से इंटरसेक्ट होती हैं. इसलिए इन पर अटैक करने के भी हैकर्स के पास कई रास्ते हो सकते हैं. इन रास्तों पर चलकर हैकर्स सरकारी वेबसाइट तक पहुंचते हैं. 

  • सरकारी आईटी और सिक्योरिटी टीम के पास वेबसाइट को सिक्योर रखने के लिए ज्यादा बैंडविड्थ नहीं होती है जिससे ये हैकर्स का निशाना बनते हैं. 

  • राज्य और लोकल सरकारें आमतौर पर फेडरल सरकारी संस्थानों के कंपेरिजन में कम फंड के साथ काम करते हैं जिस वजह से वो वेबसाइट को सिक्योर नहीं रख सकते हैं. इन्हें टारगेट बनाना आसान हो जाता है. 

  • सरकार की निर्भरता थर्ड पार्टी और कॉन्ट्रैक्टर्स पर बहुत ज्यादा है जिससे साइबर अटैक बहुत ज्यादा होते हैं.