menu-icon
India Daily
share--v1

स्मार्टफोन देखते-देखते आंखें हो जाएंगी खराब, बचने के लिए आज से ही शुरु कर दें ये काम

Smartphone Eye Protection: आजकल स्मार्टफोन का इस्तेमाल इतना ज्यादा होने लगा है कि लोगों को इसके चलते बीमारियां भी होने लगी हैं. इन्हीं में से एक है आंखें खराब होना. फोन के ज्यादा इस्तेमाल से आपकी आंखें खराब हो सकती हैं और कई दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है. चलिए जानते हैं इस बारे में. 

auth-image
India Daily Live
Smartphone Eye Protection
Courtesy: Canva

Mobile Tips: आज के डिजिटल युग में स्मार्टफोन कितना जरूरी हो गया है ये तो हम जानते ही हैं. स्मार्टफोन का जितना इस्तेमाल बढ़ा है उतना ही आंखों पर स्ट्रेस भी बढ़ा है. उदाहरण के लिए, स्क्रीन से निकलने वाली ब्लू लाइट मोलाटोनिन को दबाती है और नींद के पैटर्न को बाधित कर देती है. इससे नींद में खलल पड़ती है. इसके अलावा, लंबे समय तक स्क्रीन को देखते रहने से डिजिटल आई स्ट्रेन हो सकता है जिसमें सिरदर्द, ब्लर्ड आइस और ड्राई आई जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. 

इन प्रभावों को कम करने के लिए, स्क्रीन टाइम से ब्रेक लेना, ब्लू लाइट के कॉन्टैक्ट को कम करने के लिए स्क्रीन सेटिंग्स को एडजस्ट करना और आंखों की सही देखभाल करना शामिल है. 

आंखों पर स्मार्टफोन के हानिकारक प्रभाव को ऐसे करें कम:

20-20-20 नियम का पालन करें: हर 20 मिनट में, 20 सेकंड का ब्रेक लें और अपनी आंखों को आराम देने के लिए 20 फीट दूर किसी चीज पर फोकस करें. 
ब्लू लाइट के फिल्टर का इस्तेमाल: अपनी डिवाइस पर ब्लू लाइट फिल्टर को इनेबल करें या स्क्रीन प्रोटेक्टर का इस्तेमाल करें जो ब्लू लाइट के कॉन्टैक्ट को कम करता हो. 
स्क्रीन ब्राइटनेस को एडजस्ट करें: सुनिश्चित करें कि आपकी स्क्रीन की चमक आपकी आंखों के लिए आरामदायक हो. बहुत तेज ब्राइटनेस या बहुत अंधेरे में फोन का इस्तेमाल करने से बचें. 
उचित दूरी बनाए रखें: अपने फोन को अपनी आंखों से सही दूरी पर रखें. यह दूरी कम से कम 16-18 इंच की होनी चाहिए. 
नियमित रूप से पलकें झपकाएं: अपनी आंखों में नमी रखने के लिए ज्यादा बार पलकें झपकाएं. 
आई टेस्ट: अगर आपको लगता है कि आंखों में ज्यादा परेशानी हो गई है तो आपको नियमित रूप से अपनी आंखों को टेस्ट कराना होगा.